ऋषिकेश गढ़वी लोक संस्कृति शिक्षा समिति धार वाला के संस्थापक अध्यक्ष आसाराम व्यास ने कहा कि दिवंगत प्रेम बुनियाद लोक संस्कृति के संवाहक थे उनके निधन से प्रदेश को अपूरणीय क्षति हुई है इसको पूरा करना असंभव है शनिवार को गढ़ भूमि लोक संस्कृति रक्षा समिति ने ढाल वाला में शोक सभा में लोक संस्कृति के को बढ़ावा देने वाले प्रेम गुनियाल के निधन शोक जताया जा आसाराम व्यास ने प्रेम को निकाल ले स्थानीय लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता उनका अचानक जाना है प्रदेश के लिए अपूरणीय क्षति है समिति के सदस्य सुनील दत्त दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए कहा कि प्रेम गुनियाल प्रमुख समाज सेवी के संस्कृति संवर्धन एवं लोक संस्कृति प्रेमी थे अपनी लोक संस्कृति उत्थान के लिए क्रियाशील बने रहते थे इसके लिए व्हाट्सएप से ऋषिकेश में गर्म उत्सव के आयोजन के माध्यम से अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए प्रयासरत हैं श्रद्धांजलि देने वालों में सुरेंद्र भंडारी भरत मणि कुड़ियाल रमा बल्लभ भट्ट गजेंद्र कंडियाल महिपाल बिष्ट रवि नौटियाल घनश्याम धनीराम बिंजोला जनार्दन कैरवान आदि थे।

Post A Comment: