ऋषिकेश, 14 अप्रैल। एम्स ऋषिकेश में भारतरत्न डाक्टर भीमराव अम्बेडकर जयंती मनाई गई।
विश्वव्यापी बीमारी कोविड 19 के चलते भीड़ नहीं एकत्र की गई। किन्तु उपस्थित संकायसदस्यों तथा अधिकारियों द्वारा दूर दूर खड़े होकर व मुख पर मास्क लगाकर अम्बेडकर की प्रतिमा पर पुषपांजलि दी गई।
एम्स निदेशक प्रो रविकांत ने दीप प्र्ज्वलित कर बाबासाहेब को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। मौके पर अपने उद्दबोधन में उन्होंने कहा कि डाक्टर अम्बेडकर ने अपनी उच्च शिक्षा के बूते पर उस दौर में अपना एक ऐसा मकाम बनाया जो उन्हें हमारे संविधान का निर्माता बना गया। इसलिए हमे सर्वाधिक जोर शिक्षा पर देना है। साथ ही अपने साथ साथ सिर्फ अपने भाई बंधुओ व परिवार का नहीं बल्कि अपने समाज और देश की उन्नति की सोच ही उन्हें दूसरों से अलग बनाती है।
आज के दौर में हमे सोशल डिस्टनसिंग नंही फिजिकल डिस्टन सिंग पर जोर देना है।
एम्स निदेशक प्रो रविकांत ने कहा कि आज कारोना के कारण सर्वत्र लॉक डाउन की स्थिति है जिससे रोज कमा कर खाने वाला वर्ग  को रोजी रोटी मिलने में दिक्कतें आ रही है अतः
अगर हम सब अपनी बचत में से एक हिस्सा समाज के उस तबके को दो वक्त की रोटी देने पर खर्च कर सके तो बाबासाहेब अम्बेडकर को  यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
कार्यक्रम में डीन प्रो मनोज गुप्ता, डीन हॉस्पिटल अफेयर प्रो उदय भास्कर मिश्रा, प्रो सुरेश शर्मा, प्रो सौरभ वार्ष्णेय, वित्त सलाहकार पी के मिश्रा, अधीक्षक अभियंता अनुराग सिंह  डाक्टर मधुर उनियाल आदि उपस्थित थे।

Post A Comment: