अपने समाजिक एवं सांस्कृतिक पटल पर नयी विचारधार के साथ पहाड़ के कैनवास पर पहाड़ की खूबसूरत तस्वीर उकेरने वाली कौथिग फाउंडेशन मुंबई अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस यानि आठ मार्च को उत्तराखण्ड महिला सम्मान पद यात्रा
व श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर रहा है। यह यात्रा नेरुल (नवी मुंबई) से उत्तराखंड भवन (वाशी) तक होगी। जिसकी दूरी 2 किलोमीटर है। यह यात्रा दिल्ली दंगे में मारे गए उत्तराखंड के नौजवान दिलबर नेगी व अन्य मृतकों को श्रद्धांजलि के साथ पूरी होगी।
इस बारे में कौथिग फाउंडेशन मुंबई के संयोजक केशर सिंह बिष्ट कहते है,ज़िंदगी कभी इस ख़याल में भी जी ली जाए कि हमसे इतर भी कोई हमसे ज़्यादा संघर्षरत था और संघर्षरत है। आठ मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है और ज़ाहिर है गुज़रे दिनों की तरह यह दिन भी गुज़र जाएगा...पर सवाल है कि ऐसा गुजरे क्यों? इसलिए आठ मार्च को हम पहाड़ की उन नारियों की सम्मान अभिव्यक्ति के रूप में गुजारना चाहते हैं। जिन्होंने उत्तराखण्ड की आज की सशख़्त पीढ़ी खड़ी करने में अपना हर लम्हा संघर्ष की आग में झोंक दिया।
हम अपने इतिहास से ग़ाफ़िल न रहें और संघर्ष की आंच लगाता महसूस करते रहें, इसलिए आठ मार्च को कौथिग फाउंडेशन की ओर से मुंबई की उत्तराखण्डी महिलाओं के नेतृत्व में और स्वयं उनके सम्मान में भी उत्तराखण्ड महिला सम्मानपद यात्रा का आयोजन किया है। महिलाओं और पुरुषों की यह 2 किलोमीटर की भागीदारी दिल्ली दंगे में मारे गए दिलबर नेगी व अन्य मृतकों को श्रद्धांजलि के साथ पूरी होगी। अतःइस भाव पूर्ण सम्मान यात्रा और श्रद्धांजलि आयोजन में हमें सभी की उपस्थिति अपेक्षित है।

Post A Comment: