ऋषिकेश, 1 फरवरी।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश शल्य चिकित्सा विभाग एवं क्लिनिकल रोबोटिक सर्जरी एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में रोबो लैपकॉन-2020 का विधिवत शुभारंभ हो गया। दो दिवसीय कार्यशाला में विशेषज्ञ चिकित्सक रोबोटिक सर्जरी पर व्याख्यानमाला प्रस्तुत करेंगे। संस्थान के डिपार्टमेंट ऑफ जनरल सर्जरी व क्लिनिकल रोबोटिक सर्जरी एसोसिएशन की ओर से आयोजित कार्यशाला का एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने विधिवत शुभारंभ किया। इस अवसर पर निदेशक एम्स ने कहा कि एम्स ऋषिकेश मरीजों के हित में टर्सरी केयर व रिसर्च पर अपना 70 फीसदी ध्यान केंद्रित करेगा। जबकि सेकेंड्री केयर व प्राइमरी केयर पर 30 प्रतिशत कार्य किया जाएगा। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने बताया कि ऋषिकेश एम्स का रोबोटिक प्रोग्राम भारत वर्ष के सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों से सबसे सफल कार्यक्रम है। इस अवसर पर एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत जी ने संस्थान की ओर से प्रो. पिलानी बेलू को लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया।                                            कार्यशाला में प्रो. पिलानी बेलू व डा. विवेक बिंदल ने लैप्रोस्कोपी व रोबोटिक सर्जरी के विभिन्न पहलुओं व उनमें अंतर विषय पर व्याख्यान दिया। इस दौरान हांगकांग से वरिष्ठ रोबोटिक सर्जन चुंग नगई टांग ने वीडियो प्रसारण के जरिए लीवर व पेनक्रियाज में रोबोटिक सर्जरी के उपयोग से संबंधित जानकारियां दी, साथ ही रोबोटिक सर्जरी से उत्पन्न समस्याओं पर भी प्रकाश डाला।                                                                                            कार्यशाला में डा. सोम शेखर, डा. राजेंद्र प्रसाद, डा. अनिल अग्रवाल,डा. दिनेश बालाकृष्णन,डा. एमसी मिश्रा,डा. विकास गुप्ता,डा. वैंकटेश मुनि कृष्णन,डा.अवनीश सकलानी,डा. सुधीर कलहान ने व्याख्यान दिया।                                                                                                                      इस अवसर पर संस्थान की डीन एलुमिनाई प्रोफेसर बीना रवि, आयोजन समिति के अध्यक्ष व शल्य चिकित्सा विभागाध्यक्ष प्रो. सोमप्रकाश बासू, आयोजन सचिव डा. अमित गुप्ता,डा. फरहान उलहुदा,डा. नवीन कुमार,डा. सुधीर कुमार सिंह,डा. दीपक राजपूत,डा. प्रवीन कुमार आदि मौजूद थे।

Post A Comment: