हरिद्वार। उत्तराखंड के मातृसदन में गंगा की अविरलता को लेकर एक्ट बनाने की मांग को लेकर अनशन पर बैठीं साध्वी पद्मावती की आज सुबह अचानक हालत बिगड़ गई। उन्हें हरिद्वार के बंगाली अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसके बाद हालत में सुधार न होने पर उन्हें दिल्ली एक्स के लिए रेफर कर दिया गया।
मिली जानकारी के अनुसार, आज सुबह साध्वी अनशन के दौरान ही अचानक से बेहोश होने लगीं। आश्रम के लोगों ने देखा तो आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया।डॉक्टरों का कहना है कि भूखे-प्यासे रहने के कारण वे काफी डिहाइड्रेटेड हो गई हैं। दोपहर तक उनकी हालत में सुधार नहीं है इसलिए उन्हें दिल्ली एम्स के लिए रेफर कर दिया गया है। बता दें कि सध्वी पिछले 65 दिन से अनशन कर रही हैं।
बता दें कि हाल ही में अनशन के 47वें दिन साध्वी पद्मावती का स्वास्थ्य बिगड़ने पर पुलिस ने देर रात उन्हें जबरन उठाकर दून अस्पताल में भर्ती करा दिया था। इसके बाद उनके भर्ती कराने को लेकर काफी हंगामा हुआ।

इसके बाद मातृ सदन की ओर से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, एसडीएम कुसुम चैहान, सीएमओ डॉ सरोज नैथानी, लक्सर के एसडीएम सुनैना राणा और थानाध्यक्ष के खिलाफ कोर्ट में वाद दायर किया गया था। वहीं, साध्वी पद्मावती का कहना था कि प्रशासन को जो भी उपचार देना है मातृ सदन में देना होगा। वे अपना अनशन समाप्त नहीं करेंगी।गंगा की रक्षा के लिए एक्ट बनाने समेत कई मांगों को लेकर साध्वी पद्मावती के अनशन का मामला संसद में भी गूंजा था। नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने बजट सत्र के दौरान यह मुद्दा उठाया था।

उन्होंने साध्वी की मांगों का समर्थन करते हुए सरकार से अनशन समाप्त कराने की अपील की थी। कौशलेंद्र कुमार बीते दिनों बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा के साथ मुख्यमंत्री नीतिश कुमार का समर्थन-पत्र लेकर हरिद्वार भी पहुंचे थे। वहीं,  योगी सरकार के निर्देश पर मुजफ्फरनगर के एसडीएम और सीओ ने भी हाल ही में मातृ सदन पहुंचकर साध्वी से अनशन समाप्त करने की अपील की थी। 

Post A Comment: