क्या यही है त्रिवेंद्र सरकार का जीरो टोलरेंस !    मोर्चा      ◇विभागीय मंत्री के  कॉलेज में  सड़ रही हजारों साइकिले |      ◇श्रम विभाग द्वारा खरीदी गई थी हजारों घटिया साइकिले |     ◇गरीब श्रमिकों से किया गया धोखा |       ◇ घोटाले को अंजाम देने हेतु प्रतिनियुक्ति पर की हुई है बोर्ड में सचिव   पद पर तैनाती।  जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने बयान जारी कर कहा कि जीरो टोलरेंस का नारा देने वाली सरकार के श्रम विभाग के अंतर्गत भवन निर्माण  एवं संनिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा गत वर्ष लगभग 20000 घटिया साइकिले करोड़ों रुपए में  खरीद कर घोटाले को अंजाम देने का आरोप मोर्चा द्वारा  लगाया था | उक्त घोटाले में विभागीय मंत्री की विश्वासपात्र, जिनको बोर्ड में  प्रतिनियुक्ति पर सचिव पद का तोहफा दिया गया है, ने सांठगांठ कर हजारों गरीब श्रमिकों को घटिया सामान यथा साइकिले, सोलर लालटेन, छाता, औजार, सिलाई मशीन फर्जी तरीके से वितरण कर करोड़ों रुपए का   घालमेल करने का काम किया है | इस वित्तीय वर्ष में भी घटिया सामान की खरीद-फरोख्त एवं फर्जी वितरण जारी है |   नेगी ने कहा कि विभागीय मंत्री के कॉलेज में हजारों साइकिले व सामान खुले छत के नीचे सड़ता रहा, लेकिन सबने मोटी कमीशन खाकर अपने कुकृत्य को अंजाम दिया | मोर्चा  त्रिवेंद्र सरकार को खुली चेतावनी देता है कि अगर उसमें थोड़ी भी शर्म बाकी है तो इस घोटाले की जांच कराएं वरना  जीरो टोलरेंस नामक  जुमले का  त्याग करें |

Post A Comment: