ऋषिकेश, 29 जनवरी (AKA)।
उत्तराखण्ड की राज्यपाल  बेबी रानी मौर्य  ने कहा कि पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए वृक्षारोपण किया जाना अत्यंत आवश्यक है यह विचार राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने ज्ञान और उल्लास के पावन पर्व वसंत पंचमी के अवसर पर परमार्थ निकेतन, गंगा एक्शन परिवार के द्वारा तथा एच. डी. एफ. सी. बैंक के सहयोग से बुधवार को रेलवे स्टेशन, ऋषिकेश की रेलवे वाटिका में वृक्षारोपण करने के उपरांत उपस्थिति को संबोधित करते हुए कहा कि पर्यावरण की दृष्टि से वृक्षों को लगा देना अत्यंत आवश्यक है। उनका कहना था कि
बसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा माना गया है तथा बसंत पंचमी को फूलों के खिलने और नई फसल के आगमन का त्योहार भी कहा जाता है। बसंत के अवसर पर प्रकृति की खूबसूरती चरम पर होती है’’उन्होने कहा कि वैसे तो भारत उन देशों में से एक है जहां वनों का अस्तित्व बढ़ रहा है परन्तु भारत के पास विकास के दबाव के साथ अत्यधिक भू - जनसांख्यिकीय भार भी है, जिसके कारण हमारा देश जैव विविधता की जोखिम का सामना कर रहा है। इस समय भारत के नागरिकों का कर्तव्य है कि जिसके पास जहां पर भी खाली जमीन  पड़ी है उस पर वृक्षारोपण करें और पौधों की देखभाल अपने बच्चों के समान करें। इस अवसर पर उन्होने चिपको आन्दोलन, गौरी देवी,  सुन्दरलाल बहुगुुणा  और  कल्याण सिंह  को याद करते हुये कहा कि उत्तराखण्ड प्रकृति संरक्षण की भूमि है। अब समय पुरानी परम्पराओं को दोहराने का है। उन्होने कपड़े के थैले का उपयोग करने तथा एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग न करने का संदेश दिया। यहां यह भी बताते चलें कि ज्ञान और उल्लास के पावन पर्व वसंत पंचमी के अवसर पर परमार्थ निकेतन, गंगा एक्शन परिवार के द्वारा तथा एच. डी. एफ. सी. बैंक के सहयोग से रेलवे स्टेशन, ऋषिकेश की रेलवे वाटिका में वृक्षारोपण किया गया। इस दौरान परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज, विधानसभा अध्यक्ष  प्रेेमचन्द्र अग्रवाल , महापौर ऋषिकेश  अनिता ममगाई , निदेशक एम्स ऋषिकेश  रविकांत , एच डी एफ सी बैंक शाखा प्रमुख लखनऊ  संजीव कुमार  और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर वृक्षारोपण अभियान का शुभारम्भ किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती  ने कहा कि आज के इस दिव्य अवसर पर सभी के हृदय में ज्ञान, उल्लास, उमंग और दिव्यता की तरंग का संचार हो। उन्होेने कहा कि संत और बसंत में वैसे तो अनेक समानतायें है ।
  प्रेमचन्द अग्रवाल  ने पर्व और त्योहारों के अवसर पर वृक्षारोपण करने का संदेश देते हुये कहा कि धरती जब अपना परिधान बदलती है तब वसंत आता है।
 एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रोफेसर रविकांत जी ने कहा कि सबसे अच्छा डाॅक्टर है ’’वायु, रेनबो डाइट, व्यायाम, पर्याप्त नींद, सूर्य प्रकाश और स्वच्छ जल’’ इसके बिना मनुष्य स्वस्थ नहीं रह सकता।
 एच डी एफ सी बैंक उत्तराखण्ड और उत्तरप्रदेश के प्रमुख  संजीव कुमार  ने कहा कि उत्तराखण्ड में 1 लाख पौधों का रोपण हमारे सीएसआर के तहत किया जा रहा है साथ ही हम लगभग 10 हजार परिवारों को लघु स्तर पर व्यापार के लिये सहयोग प्रदान करते है तथा सीएसआर के तहत गांवों के बच्चों को व्यवसायिक की प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।
इस अवसर पर अल्प संख्यक आयोग अध्यक्ष सरदार नरेंद्र जीत सिंह बिन्द्रा ,  प्रदीप मौर्य , अनिकेत गुप्ता, गोविन्द अग्रवाल ,  अनिल मेहरोत्रा ,  इन्द्र प्रकाश अग्रवाल ,  विशन खन्ना ,  सी ए चंद्र शेखर , अजय गुप्ता ,  मदन कोठारी ,  मदन शर्मा , स्टेशन अधिक्षक आर के मीणा , नगर आयुक्त नरेंद्र सिंह क्विरियाल, उप जिला अधिकारी ऋषिकेश प्रेमलाल, पुलिस क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश विरेंद्र सिंह, एच. डी. एफ. सी. बैंक की ओर से संजीव कुमार जी, अनुजराज मिश्र , गुरूमीत सिंह एवं अन्य अधिकारी,  आदि भी उपस्थित थे ।

Post A Comment: