अधिकारी अपनी बात पर अड़े, व्यापारियों में निराशा


ऋषिकेश,23 दिसंबर (AKA)। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के आदेश के चलते  सड़क पर पसरे,  अतिक्रमण को हटाए जाने के परिपालन में सडक पर उतरे प्रशासन ने साफ शब्दों मे  व्यापारियों से कह दिया है ,कि वह चिन्हितकरण  के बाद दर्शाई गई नाप के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी । सोमवार को नगर निगम में अतिक्रमणकारियों के साथ अधिकारियों द्वारा की गई बैठक के बाद कार्रवाई के लिए अधिकारियों ने 26 दिसम्बर को एक बार फिर व्यापारियों के साथ बैठक की जाएगी, बैठक में अधिकांश  व्यापारियों ने  अतिक्रमण के नाम पर ज्यादती  की जा रही है, जिन्होंने कार्यवाही को गलत बताते हुए कार्रवाई को रोके जाने के लिए अधिकारियों पर दबाव डाला । लेकिन अधिकारी अपनी बात से टस से मस नहीं हुए वह कार्यवाही पर अड़े रहे वही वैद्य साला दूध का पैकेट नेशनल हाईवे के अधिशासी अभियंता ओपी सिंह का कहना था कि उनके पास 1937 के नक्शे उपलब्ध है जिसके आधार पर अतिक्रमण हटाए जाने की कार्रवाई की जाएगी उन्होंने यह भी कहा कि पिछली बार जितने भी सड़क की लाभ को लेकर मामले आए हैं, वह वर्ष उन्नीस सौ 96 मैं  नेशनल हाईवे के .बबने के बाद सभी नक्शों को समाप्त कर दिए गए हैं ।अब नए नक्शौ के आधार पर अतिक्रमण हटाया जाएगा, लेकिन भरत मंदिर की ओर से वरुण वत्सल द्वारा दिखाए गए नक्शों के बाद यह तय हुआ कि कुछ सड़कें जो पीडब्ल्यूडी से उन्हें प्राप्त हुई थी उनमें देहरादून रोड रेलवे रोड तथा हरिद्वार मार्ग भी शामिल है जो कि 80 फीट चौड़ी है इस पर भी अधिकारियों ने सुनवाई करते हुए अपनी बात को आगे बढ़ाया। वहीं उप जिलाधिकारी प्रेमलाल ने कहा कि वह उत्तराखंड उच्च न्यायालय के निर्देश के अनुसार कार्य कर रहे हैं वह तो उस आदेश को परिपालन कार्य के लिए कटिबद्ध है यदि इसके बाद भी किसी को इस पर आपत्ति है तो वह उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाये। उप जिला अधिकारी का कहना था कि वह किसी के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं वह जनहित को देखते हुए कार्य करेंगे।  अतिक्रमण को लेकर में सभी विभागों ने अपने अपने अतिक्रमणकारियों  की सूची, सूचना के अधिकार में उपलब्ध कराई थी ।जिसमें 1327 अतिक्रमणकारियों के साथ 13 मंदिरो की वह सूची भी है। जो सड़कों पर बनाए गए हैं। और उनकी आड़ में भी अतिक्रमण किया गया है। इस कार्रवाई के बाद अतिक्रमण कारियों में हड़कंप मचा है । जिन्होंने अधिकारियों का घेराव किया जिसके बाद यह तय हुआ कि इनके पास अपने कागज है वह 26 दिसंबर को  नगर निगम  में  अधिकारियों को दिखाएं, कुल मिलाकर  यह तय हुआ कि राय पंचायत की पतनाला  वहीं गिरेगा ,जहां अधिकारी कहेंगे ।अतिक्रमणकारियों के चिन्हितिकरण को लेकर  बुलाई गई बैठक में  उप जिलाधिकारी प्रेमलाल ,तहसीलदार रेखा आर्य कोतवाली प्रभारी रितेश शाह सहित भारी संख्या में पुलिस बल भी मौजूद था ।

Post A Comment: