दुकानदारों में मचा हड़कंप ,व्यापारियों ने किया विरोध


ऋषिकेश 22 दिसंबर (AKA)। उत्तराखंड हाई कोर्ट के निर्देश पर ऋषिकेश में किए गए सड़कों पर अतिक्रमण को हटाए जाने के लिए, तीसरी बार एन एच डी डिवीजन की टीम तहसील प्रशासन के नेतृत्व में पूरे दलबल के साथ सड़कों पर उतरी। जिसका व्यापारियों ने विरोध किया । लेकिन अधिकारियों ने चंद्रभागा से जय राम आश्रम  चौक तक अतिक्रमण की जद में आए दुकानदारों को बता दिया, कि सड़क की चौड़ाई कुल 96 फीट है। जिन्हें 4 सप्ताह के भीतर हटा दिया जाएगा। जिसके बाद अतिक्रमण कारी दुकानदारों में हड़कंप मच गया है। रविवार की सुबह  सड़क पर उतरी एनएच के सहायक अभियंता प्रवीण सक्सेना ने बताया कि इस बार चिन्हिकरण का कार्य हम तीन बार किया जा रहा है जिसके बाद सभी अतिक्रमणकारियों को नोटिस दिए जाने के बाद उनकी सुनवाई की जाएगी और उसके बाद अतिक्रमण हटाए जाने की कार्रवाई होगी उल्लेखनीय है कि लोक निर्माण विभाग तथा एन एच विभाग की ओर से पहले भी किए गए अतिक्रमणकारियों के चिन्हिति करण के खिलाफ लक्ष्मण झूला रोड के कुछ व्यापारियों ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी जिसकी सुनवाई 25 नवंबर को न्यायालय ने की जिसके बाद विभाग और प्रशासन को फिर से चिन्हितकरण के लिए निर्देशित किया गया था। न्यायालय ने इस बार स्पष्ट रूप से कहा था कि अब विभाग अतिक्रमण हटाने की तिथि समय और नाम नोटिस में अंकित करें ।पहले घाट चौराहे से चन्द्रभागा तक कुल 66 फीट सड़क का चौड़ीकरण होना बताया गया था। जिसे बाद में डिवीजन ने 1936 के नक्शे और खतौनीयों को ढूंढ निकाला था। जिसके आधार पर इस सड़क की चौड़ाई अब चंद्रभागा से जयराम आश्रम चौक तक कुल 96फीट चौडी व 1368 मीटर लम्बी बताई गई है । जिसे लेकर विभागीय टीम द्बारा रविवार की सुबह कार्यवाही प्रारंभ की गई ,मौके पर उपस्थित प्रवीण सक्सेना का कहना था, कि इस कार्य में देरी का कारण पुलिस फोर्स का उपलब्ध ना होना था। यहां यह भी बताते चले ।जिसमें 1327 अतिक्रमणकारियों के साथ 13 मंदिरो की वह सूची भी है। जो सड़कों पर बनाए गए हैं। और उनकी आड़ में भी अतिक्रमण किया गया है। इस कार्रवाई के बाद अतिक्रमण कारियों में हड़कंप मच गया है । अतिक्रमणकारियों के चिन्हितिकरण को लेकर सड़क पर उतरी  टीम में तहसीलदार रेखा आर्य कोतवाली प्रभारी रितेश शाह सहित भारी संख्या में पुलिस बल भी मौजूद था ।

Post A Comment: