देहरादून। मंगलवार सुबह अचानक सचिवालय में आग लगने से अफरा तफरी मच गयी। इस अग्निकांड में किसी  तरह की जनहानि नहीं हुई लेकिन न्याय विभाग के जरूरी दस्तावेज और सामान जलकर राख हो गया। समय रहते आग पर काबू पा लिया गया जिससे कोई बड़ा  नुकसान होने से बच गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार आग न्याय विभाग के सचिव संजय कुमार सिंह के कमरे में लगी। कमरे में जिस समय आग लगी उस समय कोई कर्मचारी मौजूद नहीं था। आग लगने का कारण ऐसी में शाट सर्किट होना बताया जा रहा है। जिस समय आग लगी उस समय कमरे में ऐसी चल रहा था लेकिन वहंा कोई कर्मचारी या अधिकारी मौजूद नहीं था। दफ्तर के पास से गुजर रहे लोगों ने जब कमरे से धुंआ उठता देखा तो शोर मचाया जिसके बाद लोगों में अफरा तफरी मच गयी। मौके पर मौजूद लोगों  द्वारा सचिवालय परिसर में लगे अग्निशमन यंत्रों के प्रयोग करने की कोशिश की गयी लेकिन यह यंत्र बेकार ही साबित हुए। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची अग्निशमन विभाग की दो गाड़ियों ने इस आग पर तत्काल काबू पा लिया जिससे और अधिक नुकसान होने से बच गया। भले ही इस अग्निकांड में कोई जनहानि नहीं हुई हो लेकिन सचिवालय जैसे अतिसंवेदनशील और महत्वपूर्ण भवनों में इस तरह की आगजनी की घटना से कई सवाल खड़े हो गये। जिसमें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है अग्निशमन यंत्रों का काम न करना। जबकि इसके पुख्ता बंदोबस्त यहंा होने जरूरी है। इस अग्निकांड में कमरे में रखा सामान और अन्य जरूरी कागजात जलकर खाक हो गये। अगर दस्तावेजों की अहमियतों के हिसाब से देखा जाये तो यह बड़ा नुकसान कहा जा सकता है। आग न्याय विभाग के कार्यलय में लगी। इससे यह समझा जा सकता है कि इसमें कितने जरूरी दस्तावेज रहे होंगे। अभी इसके बारे मे कोई सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं हो सकी है कि इस अग्निकांड में कौन कौन  से दस्तावेज जले है। फिलहाल आग पर काबू पा लिया गया है।

Post A Comment: