ऋषिकेश,18 दिसम्बर।(AKA)  संत दीन गोपालदास ( हरे रामा हरे कृष्णा संस्था)  ने कहा कि श्रीमद्भागवत गीता हम सबको जीवन जीने का सही मार्ग दिखाती है।संस्कारित शिक्षा के साथ साथ  स्कूलों में भारतीय धर्म ग्रंथो की भी जानकारी दी जानी चाहिए।
दीन गोपाल दास की पूर्वाह्न 10 बजे आवास विकास स्थित सरस्वती विधा मंदिर इण्टर कालेज में आयोजित श्रीमद्भागवत गीता के सन्देश प्रचार  प्रसार कार्यक्रम के  मेें बतौर मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थें।उन्होंने कार्यक्रम का शुभारंभ प्रधानाचार्य
 राजेंद्र प्रसाद पाण्डेय व अन्य अतिथियों सुबलसखा दास ,कमलाकांत दास , कृष्णा सेवादास ,मोहनबंसी दास (हरे रामा हरे कृष्णा संस्था) के साथ मां सरस्वती के चित्र पर संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कराया ।इस अवसर पर अपने सम्बोधन में दीन गोपाल दास  ने कहा  कि गीता का हमारे जीवन मे बहुत महत्व है। भागवत गीता से ही हमे अच्छे बुरे की पहचान होती है। उन्होंने कहा कि पांच हज़ार वर्ष पूर्व गीता के द्वारा ही भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में पांडव व कौरवों के बीच हो रहे युद्ध मे अर्जुन को उपदेश देकर समझाते हुए कहा था कि तुम ये मत देखो कौन अपना है कौन पराया तुम सिर्फ धर्म के रास्ते पर चलो यानी कर्म करते हुए आगे बढ़ो फल की चिंता मत करो।  उन्होंने कहा कि जिस तरह अर्जुन ने गीता से मार्गदर्शन प्राप्त किया था उसी प्रकार हमें भी अपनी जीवन शैली में उसी ज्ञान को अपनाकर आगे बढऩा चाहिए। हमारे जीवन मे कोई भी परिस्तिथि आये हमे धर्म के मार्ग को कभी नही छोडऩा चाहिए बल्कि ईमानदारी, सच्चाई, निष्ठा के साथ पथ पर आगे बढ़ते रहना चाहिए। गीता ही हमारे जीवन की कार्यशैली में प्रेरणादायक होगी क्योंकि जहां पूण्य व अच्छे विचार होते हैं वही सफलता कदम चूमती है।     साथ ही कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य करने वाली  छात्राओ को विद्यालय स्तर पर सम्मानित किया गया!कार्यक्रम में विद्यालय के शिक्षक मीडिया प्रभारी नरेन्द्र खुराना, सतीश चौहान, कर्णपाल बिष्ट, नागेन्द्र पोखरियाल, विनय सेमवाल,राजेश बड़ोला, रजनी गर्ग ,मनोरमा शर्मा
  प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

Post A Comment: