अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में संविधान दिवस मनाया गया। इस अवसर पर संविधान की प्रस्तावना (प्रिएंबल) को भी समस्त सदस्यों द्वारा पढ़ा गया एवं एम्स परिवार द्वारा उसे आत्मसात करने का संकल्प लिया गया।                                                                                                                      मंगलवार को एम्स ऋषिकेश के मेडिकल कॉलेज स्थित मिनी ऑडिटोरियम में राष्ट्रीय संविधान दिवस मनाया गया। आयोजित कार्यक्रम में संस्थान के सभी संकाय सदस्य, अधिकारी व कर्मचारी शामिल हुए। गौरतलब है कि संविधान दिवस हर वर्ष 26 नवंबर को मनाया जाता है, इसी दिन संविधान सभा ने भारत के संविधान को अपनाया था। एम्स परिवार द्वारा उसे आत्मसात करने के संकल्प के साथ ही संविधान की प्रस्तावना में वर्णित विभिन्न सामाजिक आर्थिक एवं राजनीतिक न्याय, अभिव्यक्ति विश्वास एवं धर्म व उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा एवं अवसर की समानता, व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता एवं अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता से जुड़े समस्त संकल्पों के अनुपालन की शपथ ली गई।                                                    संविधान दिवस के अवसर पर संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने एम्स परिवार से अनेकता में एकता जैसी लोकोक्ति को चरितार्थ करने का आह्वान किया। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि भारत को फिर से प्रभुत्व संपन्न, समाजवादी लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए भी नागरिकों को एकजुट होकर सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, न्याय जैसी विचारधारा को अग्रसारित कर राष्ट्र की एकता एवं अखंडता को सुनिश्चित करना है,जिससे  कि भारत देश, संविधान की सकारात्मक ऊर्जा के तले विश्व में प्रभुत्व संपन्न देशों की प्रधानता करे।                                                                निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत द्वारा संविधान में निहित नागरिकों के मौलिक कर्तव्यों के बारे में बताया गया। उन्होंने कहा कि समस्त नागरिकों को संविधान में वर्णित मौलिक कर्तव्यों के बारे में जागरुक होने की आवश्यकता है जिससे हर व्यक्ति द्वारा संविधान में निहित मौलिक कर्तव्यों एवं सिद्धांतों का अनुपालन सुनिश्चित किया जा सके। इस अवसर पर डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता द्वारा संविधान मैं वर्णित मौलिक कर्तव्यों की विस्तृत जानकारी दी और सभी संकाय सदस्यों से अनुरोध किया कि वह संविधान में निहित अपने मौलिक कर्तव्यों का पालन करें।                                                                                        इस अवसर पर उप निदेशक प्रशासन अंशुमन गुप्ता, विधि अधिकारी प्रदीप पांडेय, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल आदि ने विचार रखे। इस मौके पर डीन एलुमिनाई प्रो. बीना रवि, वित्तीय सलाहकार पर्वत कुमार मिश्रा, प्रो. किम मेमन, प्रो. लतिका मोहन, प्रो. एसके हांडू, प्रो सौरभ वार्ष्णेय, प्रो. सोमप्रकाश बासू, प्रो. श्रीपर्णा बासू, डा. बलराम जीओमर,डा. रविकांत, डा. अनुभा अग्रवाल, डा. प्रेरणा बब्बर, अधिशासी अभियंता एनपी सिंह आदि मौजूद थे।

Post A Comment: