अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चार दिवसीय प्रशिक्षण विधिवत शुरू हो गया। मानसिक स्वास्थ्य को लेकर काउंसलर प्रशिक्षण कार्यक्रम में विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को मानसिक विकारों के कारकों से अवगत कराया और इसके निवारण के तौर तरीके बताए।                                                                                                                                                                                            सोमवार को एम्स के मनोचिकित्सा विभाग एवं सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर नर्सिंग एजुकेशन एंड रिसर्च कॉलेज ऑफ नर्सिंग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित चार दिवसीय मानसिक स्वास्थ्य देखभाल, क्षमता निर्माण प्रशिक्षण कार्यक्रम का बतौर मुख्य अतिथि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने विधिवत शुभारंभ किया। इस अवसर पर निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने मानसिक विकारों के प्रति जनजागरुकता की जरुरत बताई और इसके कारणों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि एम्स ऋषिकेश में सभी प्रकार के मानसिक रोगों के उपचार की सुविधा उपलब्ध है,जिसका विकारग्रस्त रोगी लाभ उठा रहे हैं। साथ ही मानसिक रोगों पर अनुसंधान की जरुरत पर जोर दिया। जिससे समाज को ऐसे रोगों से बचाव में सहायता मिल सके।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान मरीजों को विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने को प्रतिबद्ध है और इस दिशा में सततरूप से कार्य हो रहा है,जिससे मरीजों को किसी भी तरह के उपचार के लिए उत्तराखंड से अन्यत्र महानगरों में नहीं जाना पड़े।  डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता ने मानसिक रोगों के प्रति जागरुकता पर जोर दिया, कहा कि समाज इसके प्रति जागरुक हो तो किसी भी व्यक्ति को इस तरह के रोगों से बचाने में मदद की जा सकती है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                     प्राचार्य कॉलेज ऑफ नर्सिंग प्रो. सुरेश कुमार शर्मा ने चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी दी। साथ ही उन्होंने राज्यभर से जुटे प्रतिभागियों को कार्यक्रम का महत्व बताया। एम्स के मनोचिकित्सा विभागाध्यक्ष डा. रवि गुप्ता ने मानसिक विकारों की मूल वजहों और उनसे आने वाले व्यवहारिक परिवर्तन पर विस्तृत चर्चा की। बताया ​कि कईदफा मानसिक रोगों की अनदेखी जानलेवा भी साबित हो सकती है,लिहाजा इनकी विशेषज्ञ से समय रहते चिकित्सा करा लेनी चाहिए।                                                                                                                                                                                              नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूराे साइंसेस, निम्हांस बैंगलुरू के मनोचिकित्सा विभाग के प्रो. नवीन कुमार व डा. प्रशांती नटाला ने सामान्य मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारियों के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में डा. अनिरुद्ध बासू, डा. राजेश कुमार, जेवियर बेलसियल,डा. विक्रम सिंह रावत,डा. अनिन्द्या दास, दिनेश शर्मा, रश्मि रावत आदि मौजूद थे।

Post A Comment: