ऋषिकेश-साइबर क्राइम की बढ़ती वारदात को देखते हुए कोतवाली पुलिस ने लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू किया है।
 अगर आप किसी अंजान के साथ अपने डेबिट, क्रेडिट कार्ड, मोबाइल फोन, पासवर्ड, बैंक अकाउंट आदि की जानकारी साझा कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं। अगर आप ऐसा कर रहे हैं तो समझ लीजिए कि चंद ही मिनटों में होने वाले साइबर क्राइम का अगला शिकार आप ही हैं। इससे बचने  के लिए आपको सुझाव यही है कि खुद को सतर्क रखें और ऑनलाइन होने वाली ठगी से बचें। अगर तीर्थ नगरी ऋषिकेश  की ही बात करें तो यहां पर  साइबर क्राइम के मामले प्रकाश में आते रहे हैं।
कोतवाली प्रभारी रितेश शाह ने बताया कि साइबर क्राइम का शिकार बनने वाले अधिकतर लोग अपनी लापरवाही से ही शिकार बनते हैं। ऐसा जानकारी के अभाव से होता है। साइबर क्राइम की बढ़ती वारदात को देखते हुएऋषिकेश कोतवाली पुलिस ने भी लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू किया है।  पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे अपने डेबिट, क्रेडिट कार्ड की जानकारी बिलकुल किसी को न दें। अकसर ठग लोगों को फोन कर कभी खुद को मोबाइल कंपनी का कर्मचारी बता उनसे उनके अकाउंट, डेबिट, क्रेडिट कार्ड की जानकारी ले लेते हैं और फोन कटने से पहले आपके अकाउंट से पैसे निकल भी चुके होते  हैं। कोतवाली प्रभारी शाह के अनुसार साइबर क्राइम के मामलों को सुलझाने में पुलिस सशक्त है। अगर कोई इसका शिकार बनता है तो तुरंत कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाए। अगर शिकायतकर्ता पुलिस को पूरी जानकारी देता है तो मामला उतनी ही जल्दी सुलझ जाता है।

Post A Comment: