राज्य स्थापना दिवस पर राज्य आंदोलन कारी संघर्ष समिति ने किया शहीदों को नमन
पर्वतीय कल्याण परिषद ने धूमधाम से मनाई उत्तराखंड की वर्षगांठ

ऋषिकेश, 9 नवंबर। उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस ऋषिकेश में धूमधाम के साथ मनाया गया।
 राज्य स्थापना दिवस की 20 वे स्थापना दिवस पर उत्साह से भरपूर नए विचारों से ओतप्रोत, नई चुनौतियों का सामना करने को तैयार राज्य में तब्दील होने की तैयारी में है 19 साल के सफर में उत्तराखंड है सफलता के कई मुकाम हासिल किए। इस मौके पर नगर निगम की महापौर अनीता मंमगाई ने शहर के तमाम नागरिकों को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उत्तराखंड का हमेशा से गौरवपूर्ण इतिहास रहा है। राज्य का निर्माण जिस उद्देश्य के लिए किया गया उसे साकार करने के लिए राज्य सरकार समय समय पर विभिन्न विभिन्न योजनाओं को लाकर आंदोलन कारियों के सपनो को आगे बढ़ा रही हैं। सभी को अपने-अपने क्षेत्र में अपना योगदान देना होगा ताकि यह राज्य विकास के अग्रिम पंक्ति में रहे।

उत्तराखंड राज्य की 20 वीं वर्षगांठ पर उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी संघर्ष समिति ने कार्यक्रम आयोजित किया। इस अवसर पर राज्य आंदोलन के शहीदों को नमन करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि भी अर्पित की गई।
शनिवार को हरिद्वार रोड स्थित शहीद स्मारक पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर *मुख्यातिथि शिरकत करते हुए मेयर अनीता मंमगाई ने  कहा कि आंदोलनकारियों के संघर्ष और शहीदों की शहादत के बदले में हमें यह राज्य प्राप्त हुआ है। हमें इसके विकास के लिए एकजुट होकर काम करना होगा। यही शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। समिति के प्रदेश अध्यक्ष वेदप्रकाश शर्मा के संचालन में आयोजित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में उत्तराखंड
आदोंलनकारी मोजूद रहे।
पर्वतीय कल्याण परिषद  के तत्वाधान में  भी राज्य स्थापना  दिवस धूमधाम से मनाया गया। महापौर अनिता मंमगाई के नेतृत्व में इस अवसर पर उत्तराखंड आंदोलन के प्रणेता स्व  इन्द्रमणि बडोनी चौक पर स्व इन्द्रमणि बडोनी बडोनी की मूर्ती पर माल्यार्पण कर पुष्‍पांजलि अर्पित की गई ।इसके प्रश्चात मधुवन वेडिंग प्वाइंट में  आयोजित विचार  गोष्ठी में मेयर सहित परिषद से जुड़े लोगों ने उत्तराखंड आंदोलन से जुड़े अपने स्मरणों को सांझा करते हुए उत्तराखंड आंदोलन की वर्षगांठ पर शहीदों की भावनाओं के अनुरूप राज्य को विकास के शिखर पर पहुचांने का संकल्प लिया।कार्यक्रम का बड़ा आर्कषण जहां उत्तराखंड के लजीज व्यंजन रहे वहीं गढ संस्कृति के वाध्य यंत्रों पर कलाकारों की दिलकश प्रस्तूतियों ने कार्यक्रम में चार चांद लगा दिए।इस अवसर पर बृजपाल राणा , प्यारेलाल जुगरान , संदीप शास्त्री , मनोज ध्यानी सुनील उनियाल, मदन मोहन शर्मा, संजय शर्मा, राजकुमारी जुगरान, राजेश भट्ट, राधा रमोला, कमला गुनसोला, सुनील गौड, विजयलक्ष्मी भट्ट, भगवान सिंह, राकेश मिंया, हंसराज मंदोलिया, दिनेश रावत, सोहनलाल चमोली, चैत सिंह नेगी, मदन कोठारी, मुरारी सिंह राणा ,अजय बिष्ट आदि प्रमुख रूप से मोजूद रहे।पार्षद अजीत गोल्डी, पार्षद विजय बडोनी, पार्षद राकेश मियां, पार्षद चेतन चौहान, पार्षद रश्मि रावत, पार्षद लता तिवारी, पार्षद शकुंतला शर्मा, पार्षद भगवान सिंह पवार, पार्षद देवेंद्र सिंह, पार्षद विजय लक्ष्मी शर्मा, पार्षद  राजेश दिवाकर, पार्षद वीरेंद्र रमोला, बृजपाल राणा जी, उमराणा जी, विमला रावत, शांति प्रसाद सेमवाल, हिम्मत सिंह मियां, ज्योति सजवान, राजपाल खरोला, शीशराम कंसुआ, वीरेंद्र सहवाग, चित्रमणि जी, उषा रावत, सुनील थपलियाल, विनोद शुक्ला, वीर सिंह रावत, करणी पवार सिंह, भगवान सिंह, डीएस बिष्ट जी, सुनील साहू, मनु कोठारी, मनोज ध्यानी, सुनील उनियाल, मुरारी सिंह, राणा मदन शर्मा, कमला गुनसोला, योगेश पनियार, जय दत्त शर्मा जी, श्रवण जैन, शीशराम कांसवाल, हरीश तिवारी पूर्व सभासद, पूरण पंवार, सतीश पाल, गोविंद सिंह रावत, सुनील थपलियाल,।

Post A Comment: