ऋषिकेश ,12नवम्बर। (AKA) ।देश में बढ़ते मधुमेह के रोगियों  की संख्या एक चिंता का विषय है, जिसके प्रति जागृत किए जाने के लिए विश्व  मधुमेह दिवस  के अवसर पर देहरादून के  वेंकट हॉल  में सिंघल डायबिटिक क्लीनिक द्बारा 55वां निशुल्क  जागरूकता शिविर  का आयोजन किया जा रहा है । यह जानकारी डॉक्टर अलका सिंघल ने  पत्रकारों को देते हुए बताया कि मधुमेह जैसी बीमारियों से  बचने का एक ही उपाय है कि मनुष्य अपने खान-पान व दिनचर्या में परिवर्तन करें,  उनका कहना था, कि मधुमेह के रोगियों को इस रोग से बचने व नियंत्रण किए जाने को लेकर मनुष्य को नियमित रूप रूप से योग किये जाने के साथ जागरूक रहने की आवश्यक है ।इसी के साथ उन्होंने कहां कि  हमारा देश डायबिटीज रोगियों के लिहाज से दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है। एक ताजा सर्वे के मुताबिक ज्यादातर मरीजों को यह पता ही नहीं है ,कि उन्हें शुगर है जिसके कारण देश में 7.81  करोड़ लोग अभी मधुमेह रोग से पीड़ित हैं ।जबकि 2030 तक यह रोगी 12 करोड हो जाएंगे। आज स्थिति यह बन गई है ,की प्रत्येक परिवार में एक मधुमेह के रोगी के इलाज पर 25% आय खर्च हो रही है। जिसके कारण मनुष्य में अन्य रोग भी  बढ़ रहे हैं। जैसे तंत्रिका संबंधी समस्या ह्रदय रोग, किडनी रोग, नेत्र समस्या, पैरों के अल्सर आदि भी मुख्य हैं ।इन रोग से बचने के लिए विश्व दिवस के अवसर पर सिंघल डायबिटिक क्लीनिक द्वारा  मधुमेह  शिविर लगाया जा रहा है। जिसमें आने वाले लोगों को मधुमेह के रोग से बचने के लिए एक निशुल्क पुस्तिका  भी वितरित की जाएगी।

Post A Comment: