अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश एवं सेवा-टीएचडीसी के तत्वावधान में इंदिरानगर क्षेत्र में मधुमेह रोग जांच शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें डेढ़ सौ से अधिक लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया व 110 लोगों की मधुमेह जांच की गई।                                                                                                                                                                                                                      एम्स के सोशल आउटरीच सेल की ओर से आयोजित सामुदायिक जनजागरुकता अभियान के बाबत संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि एम्स की ओर से घातक बीमारियों से लोगों के बचाव के लिए नियमिततौर पर उत्तराखंड व अन्य प्रांतों में भी स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया ​कि मोटापा व मधुमेह जैसी घातक बीमारियों से दूर रहने के लिए जीवनशैली में बदलाव व संयमित खानपान का ध्यान रखना जरुरी है।                                                                                                                                                                                            निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान की ओर से लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहने के लिए आउटरीच सेल की ओर से विभिन्न विषयों पर आधारित शिविरों के माध्यम से विभिन्न इलाकों में पाई जाने वाली बीमारियों पर अनुसंधान किया जा रहा है,जिससे लोगों को क्षेत्र विशेष में बीमारियों से ग्रसित होने वाले लोगों को स्वास्थ्य लाभ दिया जा सके। इंदिरानगर स्थित वनविभाग के रेंज अधिकारी कार्यालय परिसर में आयोजित  शिविर में लोगों को मधुमेह से बचाव के लिए नियमित योगाभ्यास करने और संयमित दिनचर्या, खानपान का ध्यान रखने को जागरुक किया गया।                                                                                                                                                                                                                                                                                             शिविर में एम्स के मधुमेह रोग विशेषज्ञ डा. रविकांत, आउटरीच सेल के नोडल अधिकारी डा. संतोष कुमार,डा. दीपांशी, डा. प्रभा ने मरीजों का परीक्षण किया। नोडल अधिकारी डा. संतोष ने बताया कि एम्स द्वारा करीब एक वर्ष से इंदिरानगर, प्रगतिविहार, नेहरूग्राम आदि इलाकों में घर-घर जाकर लोगों को हृदय रोगों व मधुमेह को लेकर जागरुक किया जा रहा है,साथ ही उन्हें इन बीमारियों से बचने के लिए योगाभ्यास के लिए प्रेरित किया जा रहा है। बताया कि मुहिम के तहत अब तक 600 लोगों के रक्त के नमूने लिए जा चुके हैं,जिन पर रिसर्च की जा रही है। इनमें जिन लोगों के मधुमेह से ग्रस्त होने की आशंका है, उन्हें इससे मुक्त रखने के लिए जरुरी चिकित्सकीय परामर्श दिया जाएगा।                                                                                                                                                                                         शिविर में मास्टर इन पब्लिक हेल्थ एमपीएस के विद्यार्थियों ने नाट्य प्रस्तुति के माध्यम से लोगों को मधुमेह रोग से बचाव को लेकर जागरुक किया। इस दौरान लोगों ने विशेषज्ञ चिकित्सकों से प्रश्न भी पूछे। शिविर में सेवा-टीएचडीसी के महाप्रबंधक राजेश्वरी गिरि, रेंज अधिकारी आरपीएस नेगी, नगर निगम पार्षद एडवोकेट राकेश मियां, सरोजनी थपलियाल, हरीश रतूड़ी, चंद्रप्रकाश भद्री, निशांत,मोनिका, राहुल आदि ने सहयोग प्रदान किया।

Post A Comment: