ऋषिकेश,27नवम्बर (AKA) ऋषिकेश तीर्थ नगरी के कथित चर्चित मिर्गी रोग विशेषज्ञ नीरज क्लिनिक पर तीसरी बार ड्रग्स कंट्रोल छापेमारी कर भारी मात्रा में दवाइयों के साथ लाखों की संख्या में मनी आर्डर फॉर्म जब्त किए हैं जिसके बाद नीरज क्लीनिक के कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है छापेमारी के दौरान नीरज क्लीनिक का मुख्य डॉक्टर भागने में सफल हो गया है प्राप्त समाचार के अनुसार उत्तराखंड सरकार के ड्रग्स कंट्रोलर के आदेश पर बुधवार की सुबह ऋषिकेश हरिद्वार मार्ग पर राज्य सरकार ड्रग्स विभाग ने छापेमारी की छापेमारी के दौरान टीम ने नीरज क्लीनिक के फर्स्ट व सेकंड फ्लोर पर मारे गए छापेमारी में भारी मात्रा में मिर्गी के इलाज के दौरान दी जाने वाली दवाइयों को जप्त कर लिया है वही टीम ने क्लीनिक के एक कमरे से लाखों की संख्या में मनी आर्डर फॉर्म भी जब्त किये है।  यहां यह भी बताते चलें कि उत्तराखंड सरकार के ड्रग्स कंट्रोलर ने नीरज क्लीनिक पर वर्ष 2004 में भी छापेमारी की थी जिसके बाद नीरज क्लीनिक के मुख्य आरके गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया था जिसके बाद उन्हें न्यायालय ने सजा भी सुनाई थी जिसके बाद नीरज गुप्ता ने ऋषिकेश हरिद्वार मार्ग पर नीरज क्लीनिक के नाम से फिर मिर्गी  का इलाज करना शुरू कर दिया है उक्त कार्रवाई एक विदेशी महिला की शिकायत पर की गई थी यह भी बताया जा रहा है कि इसी वर्ष उत्तराखंड ट्रस्ट कंट्रोलर के निर्देश पर अगस्त 2019 में भी छापेमारी की गई थी जिसके बाद यह तीसरी कार्रवाई की गई है । छापेमारी के दौरान उत्तराखंड के ड्रग्स इंस्पेक्टर उधम सिंह नगर ,  सेंट्रल टीम के  देवेंद्र कुमार , तथा दिलीप कुमार तहसीलदार रेखा आर्य, नीरज कुमार , भी मौजूद थे।

Post A Comment: