देहरादून।. भू वैकुंठधाम भगवान बद्रीविशाल मंदिर के कपाट बंद होने की तिथि इस बार 8 अक्टूबर को विजयादशमी के दिन घोषित की जाएगी। इसके बाद इस साल की बद्रीनाथ यात्रा घोषित तय तिथि पर शीतकाल के लिए बंद हो जाएगी। भगवान बद्री विशाल मंदिर के कपाट खुलने की तिथि जहां बंसत पंचमी के पर्व पर नरेन्द्रनगर राजदरबार में घोषित होती है, वहीं कपाट बंद होने की तिथि विजयादशमी के पर्व पर बद्रीनाथ धाम में की जाती है। इस बार विजयादशमी का पर्व 8 अक्टूबर को है। इस पर्व पर बद्रीनाथ धाम में मुख्य पुजारी रावल की मौजूदगी में धर्माधिकारी व अन्य वेदपाठियों द्वारा ज्योतिशीय गणना कर शुभ मुहूर्त के अनुसार मंदिर कपाट के बंद करने की तिथि घोषित की जाएगी। बताते चलें कि अन्य सभी धामों की तिथि पूर्व से ही निर्धारित होती है जबकि बद्रीनाथ धाम मंदिर के कपाट बंद होने की तिथि विजयादशमी के पर्व पर ज्योतिषीय गणना के बाद ही घोषित की जाती है। इस बारे में बद्री-केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने कहा कि पुरानी परंपरा रही है जिसमें भगवान केदारनाथ  मंदिर के कपाट के बंद होने की तिथि भैया दूज होती है। इसी प्रकार बद्रीनाथ धाम मंदिर के कपाट बंद होने की तिथि विजयादशमी के पर्व पर की जाती है। बद्रीनाथ धाम में धर्माधिकारी रावलजी और सभी धर्माचार्य मिलकर मंदिर के कपाट बंद होने की तिथि तय करेंगे. उन्होंने कहा कि इस बार 8 अक्टूबर को विजयादशमी के दिन बद्रीनाथ धाम में यह तिथि घोषित की जाएगी।

Post A Comment: