देहरादून। भैयादूज पर्व पर मंगलवार को अभिजित मुहूर्त में यमुनोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। यमुनोत्री मंदिर समिति के उपाध्यक्ष जगमोहन उनियाल ने बताया कि आज सुबह आठ बजे खरसाली से मां यमुना के भाई शनि महाराज समेश्वर देवता की डोली यमुना जी को विदा कराकर लाने के लिए यमुनोत्री रवाना हुई।
जिसके बाद दोपहर 12.25 बजे यमुनोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर यमुना जी की उत्सव मूर्ति को डोली यात्रा के साथ खरसाली के लिए रवाना हो गई। खरसाली में विधि विधान एवं अनुष्ठान के साथ यमुना जी की मूर्ति को यमुना मंदिर में स्थापित किया जाएगा। इस अवसर पर यमुना मंदिर को भव्य रूप से सजाया गया। मंदिर समिति के सदस्य विनोद प्रसाद उनियाल ने बताया कि खरसाली में महिलाओं ने मां यमुना के स्वागत की विशेष तैयारियां की है।

Post A Comment: