अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में वर्ल्ड ट्रॉमा डे पर ट्रॉमा रन का आयोजन किया गया,जिसमें विभिन्न संस्थानों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम के तहत विशेषज्ञ चिकित्सकों ने व्याख्यानमाला प्रस्तुत कर विद्यार्थियों को ट्रॉमा से जुड़ी घटनाओं में लगातार बढ़ोत्तरी के कारणों एवं बचाव की जानकारी दी।                                                                                                                                                                                                                                                     बृहस्पतिवार को वर्ल्ड ट्रॉमा डे पर सुबह एम्स की ओर से आयोजित ट्रॉमा रन का संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने विधिवत शुभारंभ किया। मैराथन में एम्स संस्थान के चिकित्सकों, कर्मचारियों के अलावा एसडीआरएफ के जवानों, विभिन्न स्कूलों के बच्चों, एनसीसी कैडेट्स, एनएसएस स्वयंसेवकों,सीमा डेंटल कॉलेज के विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया। वैज्ञानिक सत्र में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि एम्स संस्थान ने ट्रॉमा की घटनाओं के विरुद्ध मुहिम शुरू कर दी है,जिसमें हम जनसहभागिता से ही सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि ट्रॉमा के मामलों को नियमों का पालन, सावधानी बरतकर व जनजागरुकता से ही कम किया जा सकता है।                                                                                   निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने कहा कि ट्रॉमा रन के आयोजन में विभिन्न शिक्षण संस्थानों व सामाजिक संगठनों की सहभागिता बड़ा संदेश है। उन्होंने कहा कि सभी के सामुहिक संकल्प से ही इस अभियान को अंजाम तक पहुंचाया जा सकता है। इस अवसर पर एम्स ट्रॉमा सर्जरी विभागाध्यक्ष डा. कमर आजम ने वृत्तचित्र के माध्यम से ट्रॉमा की घटनाओं से बचाव के प्रति प्रतिभागियों को जागरुक किया। आयोजन सचिव डा. मधुर उनियाल ने वर्ल्ड ट्रॉमा डे पर शुरू की गई मुहिम में सभी संगठनों की सहभागिता इस अभियान की बड़ी जीत है, उन्होंने कहा कि ट्रामा के खिलाफ उत्तराखंड के वि​भिन्न एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, सरकारी विभाग, डिजास्टर फोर्सेस व सामाजिक संगठन एकजुट हुए हैं। चूंकि ऋषिकेश योग की अंतरराष्ट्रीय राजधानी है लिहाजा पहली बार इतनी संस्थानों के इस जोड़ से हम ट्रॉमा के दानव को पराजित कर सकेंगे।  विवेकानंद चेरिटेबल मिशन के इंचार्ज ड. अनुज ​सिंघल व दून मेडिकल कॉलेज के ट्रॉमा सेंटर इंचार्ज व आर्थोपेडिक विभागाध्यक्ष डा. अनिल जोशी ने कहा कि ट्रॉमा के खिलाफ इस जंग में उनका संस्थान एम्स ऋषिकेश के साथ है।                                                                                                                                                                                               वैज्ञानिक सत्र में डा. अजय कुमार, पीजीआई चंडीगढ़ के डा. पंकज शर्मा,नर्सिंग कॉलेज के डा. राजेश कुमार, आउटरीच सेल के नोडल अधिकारी डा. संतोष कुमार ने व्याख्यान दिए। इस दौरान नर्सिंग कॉलेज के विद्यार्थियों ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ट्रॉमा की बढ़ती घटनाओं के कारण उजागर किए व बचाव के उपाय भी बताए।                                                                                                                                                         इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत, डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता व ट्रॉमा सर्जरी विभागाध्यक्ष डा. कमर आजम ने पोस्टर प्रतियोगिता में विजेता नर्सिंग कॉलेज की तरन्नुम अहमद, नर्सिंग क्विज प्रतियोगिता में ट्रामा सर्जरी टीम,मेडिकल क्विज में सर्जरी रेजिडेंट्स टीम व ट्रॉमा रन में राहुल कुमार को मैडल व प्रशस्तिपत्र भेंटकर सम्मानित किया। कार्यक्रम में डा. सौरभ वार्ष्णेय,प्रो. ब्रिजेंद्र सिंह,डा. भास्कर सरकार, डा. पद्मानिधि, डा. अवनीश कटियार,डा. नीरज, महेश देवस्थले, चंदूराज बी. आदि ने सहयोग किया।

Post A Comment: