ऋषिकेश, 21 अक्टूबर। परमार्थ निकेतन में भारत के विभिन्न प्रांतों से एस जी व्ही पी से आये युवाओं के दल ने परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज से भेंट कर अध्यात्म, धर्म और विज्ञान का समन्वय, सर्वधर्म समभाव, विचारों को नियंत्रित करना, व्यसनों से दूर रहना जैसे अनेक विषयों और आध्यात्मिक जिज्ञासाओं का समाधान प्राप्त किया।
  गुजरात उच्च न्यायालय के न्यायाधीश श्री आर. बी. ढोलरिया जी और कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश श्री आर. के. बाग जी ने स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज से भेंट की। स्वामी जी ने दोनों माननीय न्यायधीशों और उनके परिवार जनों को रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि ’’आज की युवा पीढ़ी जब संकल्प करेगी तो संकल्प से सफलता; स्वच्छता; स्वास्थ्य; समृद्धि और सिद्धि भी मिलेगी। यह स्वच्छता से सृमद्धि का पथ है; यह समृद्धि से सिद्धि का संकल्प है। भारत को नये भारत की ओर ले जाने की एक ही सिद्धि है-वह है युवा। जो नये भारत की सुध दिला दे; स्मृति दिला दे; स्मरण दिला दे और संकल्प करा दे यह काम युवा शक्ति बहुत बेतहर ढ़ंग से कर सकती है। उसी युवा शक्ति ने आज दृढ़ता के साथ संकल्प लिया कि हम अपने गावों; शहरों और प्रदेशों में जाकर संकल्प से सिद्धि के पथ को नयी ऊचाँईयों पर और नयी बुलंदियों पर ले जायेंगे। केवल संकल्प ही नहीं बल्कि हमारा भारत भी शिखर पर आरूढ़ होगा।’’
स्वामी जी ने युवाओं को धर्म और विज्ञान के बारे में समझाते हुये कहा कि ’ईश्वर स्यम् इदम् सर्वम्’ अर्थात ईश्वर सर्व है। धर्म और विज्ञान दोनों एक दूसरे के विपरित नहीं बल्कि सहचर है। अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा है कि ’’विज्ञान के बिना धर्म लंगड़ा है और धर्म के बिना विज्ञान अंधा है।’’ यह कथन धर्म और विज्ञान के मध्य सहजीवी संबंध की व्याख्या करता है। धर्म और विज्ञान दोनों के द्वारा ही मानव का विकास सम्भव है। प्राचीन काल में आर्यभट्ट, सुश्रुत और चरक जैसे कई आध्यात्मिक, वैज्ञानिक थे। उन्होने कहा कि गुरूकुल में शिक्षा प्राप्त करने के साथ विज्ञान का अध्ययन करना भी आवश्यक है।
स्वामी जी ने कहा कि आज के युग में पर्यावरणीय नैतिकता बहुत जरूरी है, मानव और प्रकृति के मध्य नैतिक संबंध होना नितांत आवश्यक है तभी हम प्रकृति की रक्षा कर सकते है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने युवाओं को प्रकृति एंव जल संरक्षण का संकल्प कराया।
परमार्थ गंगा तट पर विवाह दिवस मनाने हेतु आये विपिन और सोनिका ने स्वामी जी के सान्निध्य में विवाह दिवस मनाया। उन्होने स्वामी जी से भेंट कर आशीर्वाद लिया। स्वामी जी ने उन्हें रूद्राक्ष का पौधा भेंट कर हरित विवाह दिवस मनाने और वृक्षारोपण का संकल्प कराया। साथ ही स्वामी जी ने सभी को गृहस्थ जीवन का महत्व बताते हुये अपनी जड़ों से जुड़े रहने के साथ संयुक्त परिवार के महत्व को समझाया।

Post A Comment: