ऋषिकेश 14 अक्टूबर तीर्थ नगरी ऋषिकेश में शीशम झाड़ी स्थित स्वामीनारायण आश्रम एवं पिरामिड स्प्रिचुअल सोसाइटी मूवमेंट के सहयोग से चतुर्थ महायोग ध्यान कुंज का आयोजन किया गया इस कार्यक्रम का आयोजन ब्रह्म ऋषि सुभाष पत्री एवं स्वर्णमाला पत्री व स्वामीनारायण के व्यवस्थापक आचार्य सुनील भगत जी दिव्य योग चार्य सुनील जी आचार्य गंगाराम जी आचार्य राम वीर जी पिरामिड स्प्रिचुअल के वाइस चेयरमैन श्रेयांश दादा जी एस के राजाजी सौरभ बंसल विधानसभा अध्यक्ष ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया आचार्य सुनील भगत जी ने अपने संदेश में कहा कि शरद पूर्णिमा का पावन पर्व इस महाकुंभ में पूरे भारत के रूप में रूप के दर्शन करवा रहा है या ध्यान कुंभ आज के युग में प्रत्येक व्यक्ति को तनाव रहित होने के लिए ध्यान विद्या की आवश्यकता है हमारे पूर्वजों ने चारों धाम को जोड़ने का प्रयास किया है हमारे जीवन के प्रत्येक पहलू से ध्यान जुड़ा है ध्यान ही हम अपने जीवन का हर पल से जी सकते हैं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी भारतवासियों को लद्दाख को यूनियन टेरिटरी घोषित कर महान कार्य किया पत्री ने सभी मुख्य अतिथियों और झाइयों को अपने मधुर बांसुरी वादन के साथ ध्यान कराया । पत्रीजी ने अपने संदेश में कहा कि प्रतिवर्ष यह कुंभ उत्तराखंड के तीर्थ नगरी ऋषिकेश में आयोजित किया जाएगा ध्यान सभी को करना चाहिए प्रधानमंत्री राष्ट्रपति मंत्री राजा रंक सभी के लिए ध्यान आवश्यक है भारत एवं तपोभूमि है हम ध्यान को अपना अपनाना चाहिए हम सब भारतीय हैं हम योगी बनने आए हैं सांसों के माध्यम से योगी बनेंगे और इस अवसर का लाभ उठाएंगे इस मौके पर डीएलएन शास्त्री ने कहा 2020 में महिला महायोग ध्यान कुंभ का आयोजन किया जाएगा जिसमें महिलाएं काफी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे यह कार्यक्रम 27 अक्टूबर से 1 नवंबर या कार्यक्रम का आयोजन स्वामीनारायण आश्रम गंगा तट पर किया जाएगा इसी के साथ महयोग ध्यान कुंभ विधिवत रुप से समापन हुआ।

Post A Comment: