ऋषिकेश, 24 अक्टूबर ( AKA)। ऋषिकेश के त्रिवेणी घाटों की साफ-सफाई व सुरक्षा को लेकर जिला गंगा सुरक्षा समिति की बैठक में जिलाधिकारी ने नगर के तमाम आश्रमों के महंतों संतो के साथ बैठक कर घाटो की  सुरक्षा व सोंदर्यता को लेकर दिशा निर्देश दिए। गुरुवार को नगर निगम के सभागार में नगर महापौर अनीता मंमगाई की अध्यक्षता में आयोजित बैठक के दौरान जिलाधिकारी सी. रविशंकर ने कहा कि केंद्र सरकार के गंगा को लेकर निर्मलता स्वच्छता व सुरक्षा को लेकर जिला गन्ना सुरक्षा समितियां गठित की गई है ।जिसके अंतर्गत घाटों के   सौंदर्य करण किया जाना नितांत आवश्यक है। जिसकी जिम्मेदारी आश्रमों को दी जाएगी, यदि आश्रम अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन नहीं करेंगे। तो उनके खिलाफ कार्रवाई भी होगी। गंगा के घाटों की सुरक्षा को लेकर वाकी टाकी के साथ गंगा  सुरक्षा कर्मियों की तैनाती भी की जाएगी। जो कि सुबह 4:00 बजे से घाटों की निगरानी करेंगे इसके लिए सीसी कैमरे भी लगाए जाएंगे। यह कार्य जनवरी से प्रारंभ कर दिया जाएगा । जिलाधिकारी ने सभी आश्रमों के संचालकों से अपेक्षा  व्यक्त की है कि वह  अपने आप सुनो से नियमित रूप से भजनों के साथ वेद पुराणों के ध्वनि को भी प्रसारित करें जिससे यहां का माहौल धार्मिक लगे। इसी के साथ घाटों की सुरक्षा में लगे कर्मचारियों को उनकी ड्रेस भी उपलब्ध करवाई जाएगी किसी भी घटना से निपटने के लिए एक  कंट्रोल रूम बनाए जाने का सुझाव भी दिया गया। साथ ही  परमार्थ निकेतन के बगल में  गंगा पार सीवरेज प्लांट से बहने वाले गंगा में पानी को रोके जाने की बात भी कही गई,जयराम आश्रम से प्रदीप शर्मा कबीर चौरा आश्रम के महंत कपिल मुनि, हेमकुंड गुरुद्वारे क प्रबंधक सरदार दर्शन सिंह, राजेंद्र प्रसाद गिरीश गबराल बबलू तिवारी स्वामी राम चैतन्य सहित अन्य आश्रमों के प्रतिनिधि भी मौजूद थे ।

Post A Comment: