अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के सफाईकर्मियों की टीम ने बैराज क्षेत्र में आस्थापथ पर सफाई व धुलाई अभियान चलाया। गौरतलब है कि निराश्रित पशुओं की वजह से गंदगी से अटे इस हिस्से में संस्थान के सफाईकर्मियों की टीम करीब एक पखवाड़े से नियमित स्वच्छता अभियान चला रही है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                        एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत के निर्देश पर संस्थान के सफाईकर्मियों की टीम ने सोमवार को चीला बैराज मुख्य गेट से आवास विकास कॉलोनी स्थित गंगा आरती स्थल तक सघन क्लिंनिंग अभियान चलाया। जिसके तहत आवारा पशुओं के गोबर व गंदगी से अटे आस्थापथ के इस भाग को सफाई अभियान चलाकर चमका दिया गया।                                                                                                                                                    गौरतलब है कि निदेशक एम्स के निर्देश पर संस्थान के सफाईकर्मी लगभग दो सप्ताह से आस्थापथ पर बैराज मुख्य गेट से गंगा आरती स्थल तक तड़के स्वच्छता अभियान चला रहे हैं। जिसके तहत सोमवार को आस्थापथ को धुलाई कर चमका दिया गया। जिससे तीर्थयात्रियों, श्रद्धालुओं व स्थानीय लोगों को पथ पर भ्रमण के दौरान गंदगी से परेशान नहीं होना पड़े। इस अवसर पर संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि गंगा तटों को स्वच्छ रखना हम सबका नैतिक दायित्व है,इसके लिए हमें नदी तटों को गंदगी से बचाने की शपथ लेनी होगी,जिससे मोक्षदायिनी गंगा को भी प्रदूषित होने से बचाया जा सकता है।                                                                                                                                                                                                                                                                     अभियान में एम्स के स्वास्थ्य निरीक्षक सचिन कुमार चौधरी, चीफ सुपरवाइजर मधुसूदन सेमवाल, सुपरवाइजर बिरजू, बबलू के अलावा 13 सफाईकर्मियों की टीम शामिल थी, जिनमें गगन, संजय, रजत आदि शामिल थे।

Post A Comment: