ऋषिकेश।
स्वच्छ सुलभ फाउंडेशन ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस पर लोगों को पॉलीथीन का थैला न प्रयोग कर इको फ्रेंडली कपडे के थैले प्रयोग करने की अपील की । साथ ही एक हजार कपड़े के थैले बांटे गए।
बुधवार को स्वच्छ सुलभ फाउंडेशन की ओर से नगर पंचायत स्वर्गाश्रम-जौंक के आसपास के क्षेत्रों में एक हजार कपड़े के थैले बांटे गए। इस दौरान फाउंडेशन के सदस्यों ने लोगों से अपील की वे पॉलीथीन का प्रयोग न करके ईको फ्रेंडली बैग्स के प्रयोग करे इससे पॉलीथीन के खतरे को बढ़ने से रोका जा सकता है। मार्केट जाते समय घर से ही कपडे के थैले लेकर सामान की खरीदारी करने जाएं। ऐसा करके आप तीर्थनगरी को पॉलीथीन मुक्त  बना सकतें हैं। तभी पॉलीथीन से होने वाले प्रदूषण से बचा जा सकता है।
चैरेमन माधव अग्रवाल ने कहा स्वच्छ सुलभ फाउंडेशन की पहल को सराहा और लोगों से अपील की वे किसी भी हाल में पॉलीथीन का त्याग करें । अपने छोटे छोटे कामों जैसे दूध लेने के लिए बर्तन, सब्जी व अन्य सूखा सामान मार्किट से लेने जाते समय घर से ही कपडे के थैले लेकर चले। ये अच्छी आदत डालकर आप शहर को स्वच्छ और सुन्दर बना सकतें हैं।
  फाउंडेशन के डायरेक्टर विजय शंकर राय ने कहा कि उत्तराखंड को पॉलीथीन मुक्त राज्य बनाने को लेकर समय समय पर " say no use plastic bags " का अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया जाता है। साथ ही ईको फ्रेंडली बैग्स भी लोगों में जागरूकता लाने को बांटा जाता है।
कंपनी प्रभारी अनूप कुमार कोठियाल ने कहा कि आगे भी ऐसे प्रोग्राम आयोजित किये जायंगे। जिससे पर्यावरण को बचाया जा सके।
 टीम ने लोगों को पॉलीथीन के प्रयोग से होने वाले नुकसान के बारे में भी बताया। कैसे पॉलीथीन का धीमा जहर हमारी आबोहवा को प्रदूषित कर रहा है। समाजसेवी दिनेश सिंह पुंडीर ने कहा कि पॉलीथीन के प्रयोग पर हमें खुद अंकुश लगाना होगा तभी हम स्वच्छ वातावरण का मौहाल तैयार कर सकतें है। जब भी बाजार जाए तो साथ में घर से ही इको फ्रेंडली थैले लेकर निकले और पॉलीथीन प्रयोग न करने का संकल्प लें।
इस दौरान सभसाद जितेंद्र धाकड़, सरोज देवी, नवीन राणा, पिंकी शर्मा, आशा देवी, अनीता देवी, बसन्ती देवी, भुजनी देवी, शीला, मीना देवी, राहुल, विपिन, गौतम, बंटी, अमन, सुनील, सूरज यादव सहित अन्य थे।
फोटो- बुधवार को नगर पंचायत क्षेत्र के जौंक में स्वच्छ सुलभ फाउंडेशन की टीम ने महिलाओं को इको फ्रेंडली थैले देकर जागरूक किया।

Post A Comment: