अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के आयुष विभाग की ओर से राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के उपलक्ष्य में टिहरी विस्थापित निर्मल ब्लॉक में स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें 102 स्कूली बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। साथ ही उन्हें आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के प्रति जागरुक किया गया।                                                                                                                                                                                                     मंगलवार को एम्स आयुष विभागाध्यक्ष प्रो. वर्तिका सक्सेना की अगुवाई में निर्मल ब्लॉक स्थित राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में स्वास्थ्य परीक्षण एवं आयुर्वेद जनजागरुकता शिविर आयोजित किया गया। इस दौरान एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बच्चों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण को नितांत आवश्यक बताया, बताया कि एम्स आयुष विभाग वि​भिन्न विद्यालयों में इस तरह के शिविरों का आयोजन नियमिततौर पर करेगा,जिससे स्वस्थ भविष्य की परिकल्पना को साकार किया जा सके।                                                                                                                                                     एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने कहा कि नौनिहालों को भारतीय प्राचीन आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को लेकर जागरुक करने की आवश्यकता है,जिससे इस प्राचीन चिकित्सकीय विधा से भावी पीढ़ी रूबरू हो सके। शिविर में आयुष की वरिष्ठ चिकित्साअधिकारी डा. मीनाक्षी जगझापे ने 102 स्कूली बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के उपलक्ष्य में आयुष विभाग द्वारा बुधवार को राजकीय इंटर कॉलेज आईडीपीएल में स्वास्थ्य शिविर आयोजित किया जाएगा, जबकि शुक्रवार को भगवान धन्वंतरि जयंती पर संस्थान में पूजन व पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।                                                                                                                                                                                                              शिविर के आयोजन में नितेंद्र सारस्वत, अत्रेश उनियाल, सौरभ रावत,विद्यालय के मधुसूदन रयाल, ममता कानोली,शिवेंद्र ध्यानी, सीमा रानू आदि ने सहयोग प्रदान किया।

Post A Comment: