विश्व दृष्टि दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में जनजागरुकता के लिए सार्वजनिक व्याख्यानमाला का आयोजन ​किया गया। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में मधुमेह से आंखों को होने वाले नुकसान, बचाव एवं उपचार से संबंधित जानकारी दी गई। पब्लिक लेक्चर में नगर क्षेत्र की विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ ही मरीजों व उनके तीमारदारों ने भी हिस्सा लिया।                                                                                                                                                                             इस अवसर पर संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि संस्थान के नेत्र रोग विभाग में रेटिना चिकित्सा में विशेषज्ञ  सहायक आचार्य डा. रामानुज सामंत व डा. देवेश कुमावत मरीजों को सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि विभाग में सोमवार को छोड़कर सप्ताह के पांच दिन ओपीडी में रोगियों की रेटिना से संबंधित समस्याओं का उपचार किया जा रहा है। मधुमेह नेत्र रोग के उपचार के लिए आवश्यक चिकित्सकीय सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं।                                                                                                                                                                                                                                                                                               नेत्र रोग विभागाध्यक्ष डा. संजीव कुमार मित्तल ने बताया कि देश में मधुमेह की बीमारी से करीब 7 प्रतिशत लोग ग्रसित हैं। इसकी मुख्य वजह रहन-सहन,खानपान में बदलाव है,जिसके कारण भविष्य में मधुमेह से और अधिक लोग ग्रसित हो सकते हैं। यह बीमारी रक्त सर्करा की मात्रा अधिक होने के कारण होती है। उन्होंने बताया कि मधुमेह से दृष्टिपटल रेटीना पर दुष्प्रभाव पड़ने लगता है। रक्त वाहिकाओं से रक्त का रिसाव होने लगता है व सूजन आ जाती है। डा. मित्तल ने बताया कि मधुमेह से संबंधित दृष्टिपटल रोग में दृष्टि विकृति होना, आंखों के आगे काले धब्बे दिखना,दृष्टि का अर्द्ध व पूर्णरूप से कम हो जाना आदि लक्षण पाए जाते हैं। उन्होंने बताया कि मधुमेह नेत्र जांच से दृष्टिपटल रोग का जल्दी पता लगाकर दृष्टि हानि से बचा जा सकता है।                                                                                                                                                                                                    लिहाजा प्रत्येक मधुमेह ग्रसित व्यक्ति को समय समय पर विशेषज्ञ चिकित्सक से नेत्र जांच करानी चाहिए। उन्होंने बताया कि मधुमेह दृष्टिपटल रोग का इलाज लेजर विधि, आंख में इंजेक्शन और सर्जरी द्वारा किया जा सकता है।                                                                                                                                                                                            इस अवसर पर डा. देवेश व डा. श्रींखल ने भी व्याख्यान दिया।                                                                                                                                 आयोजन में नेत्र रोग विभाग के डा. अजय अग्रवाल, डा. अनुपम, डा. रामानुज, डा. नीति गुप्ता आदि ने सहयोग किया। इस अवसर पर इनर व्हील क्लब अध्यक्ष मीनू डंग,आरती अग्रवाल,सरिता शर्मा,गीता धीर, अजय धीर, अंजू मित्तल, श्रीपरशुराम महासभा अध्यक्ष राकेश शर्मा,दिनेश मुद्गल,अभिषेक शर्मा, वैश्य समाज के ऋ​षि अग्रवाल,सविता अग्रवाल,पुरुषोत्तम दयाल अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Post A Comment: