देहरादून में प्रोग्रेसिव डेयरी फार्मर्स एसोसिएशन उत्तराखंड की ओर आयोजित एवं उत्तराखंड सरकार और हंस फाउंडेशन द्वारा प्रायोजित दून इंटरनेशनल डेयरी एक्सपो-2019 का रंगारंग समापन हो गया है। एक्सपो के अंतिम दिन समाज सेवी एवं हंस फाउंडेशन की प्रेरणास्रोत माताश्री मंगला जी ने दून इंटरनेशनल डेयरी एक्सपो-2019 के विजेता प्रतिभागियों को सम्मानित किया।
आपको बता दें कि इस प्रदर्शनी में देश-दुनिया की तमाम डेयरी और एग्रीकल्चर से जुड़ी कंपनियां अपने उत्पाद और तकनीक का प्रदर्शन करने पहुंची थी। एक्सपो में बेस्ट बछिया प्रतियोगिता और बुल शो का आयोजन किया गया था। 28 से 30 सितंबर तक देहरादून के परेड ग्राउंड पर आयोजित इस प्रदर्शिनी के दौरान किसान डेयरी और कृषि क्षेत्र से जुड़ी की जानी-मानी कंपनियों के उत्पाद और तकनीक से रु-ब-रू हुए।
दून इंटरनेशनल डेयरी एक्सपो-2019 के आयोजन के लिए माताश्री मंगला जी ने में प्रोग्रेसिव डेयरी फार्मर्स एसोसिएशन  उत्तराखंड के अधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा की एक्सपो-2018 के आयोजन की तरह इस बार का आयोजन भी बहुत बेहतर था। इस एक्सपो में आम लोग और किसान आधुनिक कृषि प्रौद्योगिकी से रू-ब-रू हुए तो अलग-अलग नस्लों और किसान पद्धतियों के साथ-साथ पशुओं के बारे में भी किसान भाईयों और आम लोगों को जानकारी प्राप्त हुई। यह निश्चित तौर पर प्रदेश के किसानों और यहां के कृषि व्यवस्यों के लिए महत्वपूर्ण कदम है।
माताश्री मंगला जी ने कहां कि इस तरह के आयोजनों से हमारे राज्य की औषधियों,कृषि परंपराओं और उत्पादों के बारे में देश-विदेश से आए लोगों जानकारी तो प्राप्त करते ही है। साथ ही हमारे लोगों भी नयी तकनीकि को जानते और समझते है। माताश्री मंगला जी ने दून इंटरनेशनल डेयरी एक्सपो-2019 में सम्मानित हुए विजेता प्रतिभागियों को बधाई देते हुए कहा की आप सब को इस तरह की प्रतियोगिताओं में निरंतर भाग लेते रहना चाहिए। ताकि देश-दुनिया में आपके कामों के बारे में आम लोग जान सकें।
इस मौक पर पीडीएफए उत्तराखंड के अध्यक्ष डॉ. हरेन्द्र सिंह रावत ने कहा की यह हमारे लिए बड़ी सफलता हैं की इस दूसरे दून इंटरनेशनल डेयरी एंड एग्रीकल्चर एक्सपो बड़ी संख्या में देश-विदेश से प्रतिभागी पहुंचे और तमाम लोगों ने इस एक्सपो में आ कर कई तरह की जानकारियां ली। श्री रावत ने बताया कि दून इंटरनेशनल डेयरी एक्सपो-2019 में कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमें कई पशुपालकों ने भाग लिया। 
देहरादून के परेड ग्राउंड में लगे पशु मेले में बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी। मेले में भैंसों का शो हुआ। शो में 2018 का विनर रहा हरियाणा जिंद का रुस्तम, राजस्थान के जोधपुर का भीम, हरियाणा का मोनू कमांडर, उप्र के सूरज समेत 12 भैंसों ने भी हिस्सा लिया। शो का मुख्य आकर्षण जाफराबादी भैंसा रहा। गो वर्ग में चौलिस्तान की गाय ने लोगों का दिल जीता। 
बेस्ट ब्रीड प्रतियोगिता में हिसार के कपूर के पशुओं ने पहला, करनाल के प्रेम सिंह के पशुओं ने दूसरा और हरियाणा के मोमीन के पशुओं ने तीसरा स्थान हासिल किया। मुर्रा कटिया वर्ग में हिसार के प्रदीप के पशु पहले, हिसार के प्रमोद के पशु दूसरे और हरियाणा के मोमिन के पशु तीसरे स्थान पर रहे। भैंस नस्ल में गनगना के वीरेंद्र के पशु ने पहला और दूसरा, करना के प्रेम सिंह की भैंस तीसरे स्थान पर रही। देसी साहीवाल नस्ल में नजीबाबाद के वैभव की भैंस ने पहला, वीरेंद्र की भैंस ने दूसरा स्थान हासिल किया।  
गाय की नस्ल में चौलिस्तान की गाय पहले, उत्तरकाशी की बद्री दूसरे स्थान पर रही। गिर नस्ल में विनोद की गाय पहले, वीरेंद्र की दूसरे स्थान पर रही। जर्सी नस्ल में प्रेम की गाय पहले नंबर पर आई। गिर ड्राई नस्ल में वीरेंद्र की गाय पहले, विनोद की दूसरे और अतिंदर की तीसरे स्थान पर रही

Post A Comment: