ऋषिकेश,11 अक्टूबर । अपना भवन बनाने और उसकी मरम्मत संबंधी नक्शे पास करने की सभी अनुमति एचआरडीए के बजाय एमडीडीए से लेनी होगी।  जिसका कार्यभार शुक्रवार को एमडीडीए के अधिकारियों ने संभाल लिया है। यह जानकारी एमडीडीए के अधिशासी अभियंता श्याम मोहन शर्मा ने देते हुए बताया कि अब ऋषिकेश विधानसभा का संपूर्ण क्षेत्र एमडीडीए के अधीन आ गया है। जिसमें आज से ही एमडीडीए के अधिकारियों ने ऋषिकेश के हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण विभाग में आकर फाइलों को अपने सुपुर्द लेने की कार्यवाही शुरू कर दी है। उल्लेखनीय है कि  इससे पूर्व एचआरडीए के पास ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अलावा मुनी की रेती नगरपालिका और गंगा पार जोंक नगर पंचायत का क्षेत्र भी हुआ करता था। इसके अलावा एचआरडीए के पास देवप्रयाग तक की भवन निर्माण संबंधी नक्शा पास करने की अनुमति देने की व्यवस्था थी, लेकिन अब मुनी की रेती और देवप्रयाग तक की सीमा को टिहरी विकास प्राधिकरण के अधीन कर दिया गया है। वहीं नदी पार पौड़ी जिलान्तर्गत आने वाली जोंक और उससे सटे इलाकों को पौड़ी विकास प्राधिकरण के अधीन कर दिया गया है।
अब मुनी की रेती और आसपास के सभी टिहरी जिले में आने वाले इलाकों को टिहरी विकास प्राधिकरण से भवन निर्माण व मरम्मत संबंधी नक्शा पास करने की अनुमति लेनी होगी। वहीं नदी पार जोंक और पौड़ी जिले के बाकी सभी क्षेत्रों में भवन और मरम्मत निर्माण संबंधी नक्शा पास करने की अनुमति पौड़ी जिला विकास प्राधिकरण देगा।
अब जो काम एचआरडीए इन सभी क्षेत्रों में करता था। उन कामों को तीन विभागों में अपने अपने जनपद के एरिया के हिसाब से बांट दिया गया है।
पहले एचआरडीए ऋषिकेश के पास बहुत बड़ा क्षेत्रफल नक्शा पास करने के लिए दिया गया था। वहीं एमडीडीए ऋषिकेश को सिर्फ ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के नक्शा पास करने के लिए अनुमति प्रदान की गई है, और बिना नक्शा पास किए और गंगा से सटे क्षेत्रों में होने वाले अवैध निर्माण कार्यों को अब एमडीडीए रोक लगाएगा।
एमडीडीए का एरिया नटराज चौक से हरिद्वार की चंद्रभागा पुल से हरिपुरकलां तक होते हुए छिद्दरवाला मिलाकर ऋषिकेश विधानसभा का संपूर्ण क्षेत्र आ गया है, इस संबंध में  एमडीडीए ऋषिकेश में अपना चार्ज लेते हुए यहां के अधिशासी अभियंता श्याम मोहन शर्मा ने बताया कि यहां एई, जेई और क्लेरीकल स्टाफ मिलाकर लगभग 8 लोगों का स्टाफ काम करेगा। जो नियमानुसार बने भवन नक्शे को पास करने के साथ-साथ गैर कानूनी तरीके से बनने वाले किसी भी अवैध निर्माण पर कठोरतम कार्रवाई करेगा।
अब ऋषिकेश तहसील के उप जिलाधिकारी को जो पद एचआरडीए में उप सचिव का मिला हुआ होता था वही पद एमडीडीए में उप जिलाधिकारी का संयुक्त सचिव होगा।मतलब हरिद्वार रुड़की विकास प्राधिकरण में उप जिलाधिकारी ऋषिकेश एचआरडीए ऋषिकेश में उप सचिव की भूमिका में रहते थे। वहीं मसूरी दून विकास प्राधिकरण बनने से एमडीडीए ऋषिकेश में उप जिलाधिकारी ऋषिकेश का पद संयुक्त सचिव का हो जाएगा। 

Post A Comment: