अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश को बीते सप्ताह दो लोगों के कॉर्निया प्राप्त हुए,जिनका चार लोगों को सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया। एम्स प्रशासन ने कॉर्निया का दान कराने वाले परिवारों का आभार प्रकट किया है। इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि भारत में अंधेपन की समस्या से ग्रस्त मरीजों की संख्या में साल दर साल इजाफा हो रहा है। उन्होंने बताया कि नेत्रदान से ही कॉर्निया की समस्या को दूर किया जा सकता है। ​एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि लोगों को नेत्रदान के प्रति जागरुक करने को लेकर संस्थान सततरूप से अभियान चला रहा है, साथ ही इस समस्या के निदान के लिए संस्थान में बीते माह 26 अगस्त को आई बैंक की स्थापना की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि हम सभी को नेत्रदान को लेकर जागरुक होने की आवश्यकता है।                                                                                                                                      एम्स के नेत्र रोग विभागाध्यक्ष डा. संजीव मित्तल व डा. नीति गुप्ता ने बताया कि बीते सप्ताह संस्थान के नेत्र कोष को दो लोगों की मृत्यु पर उनके परिजनों के संकल्प से कॉर्निया प्राप्त हुए। मानव केंद्र देहरादून निवासी प्रीतम सिंह के निधन पर उनके करीबी प्रदीप कुमार शर्मा ने दिवंगत का नेत्रदान कराया। साथ ही ऋषिकेश निवासी एक युवती के निधन पर उनके माता- पिता ने संस्थान में दिवंगत का नेत्रदान कराया।                                                                                            उन्होंने बताया कि प्राप्त कॉर्निया की जांच के बाद संस्थान के आई बैंक में चार लोगों को कॉर्निया सफलतापूर्वक प्रत्यारोपित किए गए। चिकित्सकों के अनुसार उक्त चारों व्यक्ति बीते कई वर्षों से काार्निया अंधापन से पीड़ित थे, कॉर्निया प्रत्यारोपण करने के बाद वह देख पा रहे हैं। उन्होंने अपील की कि नेत्रदान करने के इच्छुक व्यक्ति एम्स ऋषिकेश के आई बैंक में दूरभाष संख्या 0135-2460835 व 09068563883 पर संपर्क कर सकते हैं।

Post A Comment: