अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में ईएनटी विभाग की ओर से अंतरराष्ट्रीय वधिर दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया,जिसमें विशेषज्ञ चिकित्सकों ने वधिरता के कारण, बचाव, उपचार के साथ ही ध्वनि प्रदूषण से होने वाले नुकसान पर व्याख्यान दिया। इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि एम्स संस्थान उत्तराखंड व समीपवर्ती प्रदेशों में वधिरता की पहचान, उपचार व इसके उन्मूलन के लिए लंबे अरसे से प्रयासरत है। जिसके चलते लोग लाभा​न्वित हो रहे हैं।                                                                                                                      एम्स में वधिर दिवस पर आयोजित कार्यक्रम के तहत पोस्टर व स्लोगन लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें एमबीबीएस के विद्यार्थियों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इस अवसर पर नाक,कान,गला विभागाध्यक्ष डा. सौरभ वार्ष्णेय व डा. अमित त्यागी ने वधिरता के कारण, बचाव व उपचार से संबंधित जानकारियां दी। उन्होंने बताया कि एक शोध में यह प्रमाणित हुआ है कि लगभग छह से सात प्रतिशत लोग वधिरता से पीड़ित हैं। उन्होंने बताया कि इनमें से आधे से अधिक कारणों की जानकारी होने पर इन रोगों की रोकथाम की जा सकती है।                                           विशेषज्ञ चिकित्सकों ने बताया कि आज के युग में वधिरता के कारणों में ध्वनि प्रदूषण की वजह सबसे अधिक है। उन्होंने बताया कि ध्वनि प्रदूषण से वधिरता का बचाव जागरुकता से किया जा सकता है। ईएनटी विभागाध्यक्ष डा. सौरभ वार्ष्णेय ने बताया कि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत के प्रयासों से ही संस्थान में वधिरता के निवारण के लिए तमाम सुविधाएं उपलब्ध हो सकी हैं।                                                                                           उन्होंने बताया कि निदेशक प्रो. रवि कांत द्वारा उपलब्ध कराई गई सुविधाओं के तहत संस्थान के ईएनटी विभाग में जन्मजात शिशुओं में सुनने की क्षमता की जांच नियमिततौर पर की जा रही है। साथ ही वधिरता के लक्षणों की पहचान होने पर रोगियों को उचित परामर्श दिया जाता है। उन्होंने बताया कि संस्थान में इससे जुड़े सभी प्रकार के ऑपरेशन की सुविधाएं उपलब्ध हैं। संस्थान में बीते दो वर्षों से नियमिततौर पर मूक वधिर बच्चों के लिए भारत सरकार की योजनाओं के अंतर्गत कॉकलियर इन्प्लांट की सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है।                                                     इस अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताओं के तहत स्लोगन में अनमोल ने प्रथम, शीतल ​द्वितीय व अमन सिंह ने तृतीय स्थान जबकि पोस्टर प्रतियोगिता में पंकज गर्ग प्रथम, रवि इंद्रपाल सिंह व अमन सिंह द्वितीय व श्रीहरमिंदर तृतीय स्थान पर रहे। कार्यक्रम के आयोजन में डा.मधुप्रिया,डा. अमित कुमार, डा. अभिषेक भारद्वाज आदि ने सहयोग किया।

Post A Comment: