अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में दो दिवसीय क्लिनिकल रिसर्च नैदानिक अनुसंधान विषय पर कार्यशाला शुरू हो गई। जिसमें देशभर से 60 से अधिक विशेषज्ञ व प्रतिभागी शिरकत कर रहे हैं। कार्यशाला को लेकर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने फार्माकोलॉजी विभाग द्वारा लगातार किए जा रहे अनुसंधान से जुड़े कार्यों पर शुभकामनाएं दी। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने विभागीय टीम को ​भविष्य में शोध कार्यों को सततरूप से करने के लिए प्रोत्साहित किया,जिससे इसका लाभ मरीजों व आम जनता को मिल सके।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                          एम्स ऋषिकेश में फार्माकोलॉजी विभाग की ओर से आयोजित दो दिवसीय क्लिनिक रिसर्च कार्यशाला का डीन रिसर्च प्रो. प्रतिमा गुप्ता, पीजीआई चंडीगढ़ के प्रो. विकास मेहंदी, फार्मासिटिकल कंपनी से जुड़े डा. विनु,डा. शोएवल मुखर्जी व डा. इंद्रजीत ने संयुक्तरूप से किया। इस अवसर पर डीन रिसर्च प्रो. प्रतिमा गुप्ता ने संस्थान के फार्माकोलॉजी विभाग की ओर से किए जा रहे विभिन्न शोधकार्यों की सराहना की व कार्यशाला में शामिल हो रहे प्रतिभागियों को भविष्य में शोधकार्य के लिए शुभकामनाएं दी।                                                                                                                                                                  एम्स के फार्माकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. शैलेंद्र हांडू ने कार्यशाला में देश के विभिन्न हिस्सों से आए विशेषज्ञों व विद्यार्थियों का विभाग की ओर से स्वागत किया, उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में अनुसंधान के क्षेत्र में आए बदलावों से अवगत कराया। कार्यशाला में अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर नैदानिक अनुसंधान किस तरह से करें,इसका प्रशिक्षण दिया गया।                                                                                                                                  साथ ही उन्हें नैदानिक शोध संबंधी नियम-कानूननों के विषय से अवगत कराया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक डा. पुनीत​ धमीजा, डा. मनीषा बिष्ट, डा. गौरव चिकारा, डा. ताजिया हसन, डा. विकास, डा. आरका पाल, डा. सुुभाष,डा. विनोद,ज्ञानवर्धन, रोहताश यादव आदि मौजूद थे।

Post A Comment: