ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। जिसमें चिकित्सकों को भविष्य में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का महत्व बताया गया। इस दौरान विशेषज्ञों ने अनुसंधान के क्षेत्र में कार्य करने की जरुरत बताई। एम्स के रेडियोलॉजी विभाग की ओर से आयोजित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विषयक व्याख्यान कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने की। इस अवसर पर निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ही भविष्य की जरुरत है। उन्होंने कहा कि हमें बतौर चिकित्सक अपनी पुरानी रुढ़ीवादी सोच को छोड़कर शोध को अपनाना होगा। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस न केवल चिकित्सक को सहायता करती है बल्कि आपातकालीन स्थितियों में भी कई मर्तबा काफी अधिक सहायक सिद्ध होती है। निदेशक ने बताया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में ऋषिकेश एम्स संस्थान जल्द ही दुरुस्त इलाकों में सेवाएं देने की तैयारी में है। निदेशक प्रो. रवि कांत बताया कि इसी प्रक्रिया के तहत एम्स संस्थान की लगभग 15 वाह्य रोगी विभाग (ओपीडी)  में मशीनें स्थापित की जा चुकी हैं। महाजन इमेजिंग सेंटर, नई दिल्ली के एसोसिएट डायरेक्टर डा. विदुर महाजन ने बताया ​कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विषय पर दुनियाभर में अनुसंधान हो रहे हैं। जिसके तहत चिकित्सकों पर पड़ने वाले काम के बोझ को कम करने के लिए प्रोग्राम तैयार किए जा रहे हैं। डा. विदुर महाजन ने बताया कि इसमें कोई दोराय नहीं कि मशीनें चिकित्सकों की मदद के लिए बनाई जा रही हैं, मगर यह भी स्पष्ट है कि तैयार की जा रही कोई भी मशीन चिकित्सकों का विकल्प नहीं हो सकतीं। उन्होंने बताया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आजकर मॉलिक्यूलर व जिनोमिक्स लेवल पर कार्य कर रही हैं,इससे किसी भी व्यक्ति को भविष्य में होने वाली बीमारियों का भी वर्षों पूर्व पता लगाया जा सकता है। इस दौरान उन्होंने डा. राजेश पसरीचा व डा. वंदना ढींगरा द्वारा उठाए गए प्रश्नों के उत्तर भी दिए। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने संस्थान की ओर से डा. विदुर महाजन को स्मृति चिह्न भेंटकर सम्मानित किया। इस अवसर पर डीन (एकेडमिक) प्रो. मनोज गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश, मेडिकल एजुकेशन विभागाध्यक्ष प्रो. शालिनी राव, डा. अंजुम सय्यद, डा. पंकज शर्मा, डा. उदित चौहान, डा. मोहित तायल, डा. प्रशांत पाटिल आदि मौजूद थे।

Post A Comment: