ऋषिकेश, 28अगस्त (AKA)।  पूर्व विधायक शैलेंद्र सिंह रावत ने  लक्ष्मण झूला और स्वर्गाश्रम क्षेत्र को राजाजी टाइगर रिजर्व के द्वारा इको सेंसेटिव जोन में शामिल किए जाने के प्रस्ताव की मंजूरी का विरोध करते हुए क्षेत्रवासीयो के साथ 10 जुलाई से पहले तहसील मे  विरोध किए जाने का ऐलान किया है । पूर्व विधायक शैलेंद्र सिंह रावत  ने वसुंधरा पैलेस मुनिकीरेती में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा की उत्तराखंड की जनता अपने हकहकूको को लेकर सड़कों पर  आंदोलन करेगी, क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा उत्तराखंड के प्रमुख  6 पार्क  में से एक पार्क राजाजी राष्ट्रीय पार्क का एक हिस्सा जो कि जनपद पौड़ी गढ़वाल के यमकेश्वर विधानसभा के अंतर्गत आता है उसके लक्ष्मण झूला क्षेत्र को इको  सेंसटिव जॉन में शामिल किए जा रहा है  जिसका यहां की जनता  पुरजोर विरोध करेगी। उन्होंने कहा कि हमारा राज्य शत शत प्रतिशत वन भूमि के अंतर्गत आता है यदि इस प्रकार के काले कानून लगाए गए, तो यहां की जनता को अपने हक हकूकों से हाथ धोना पड़ेगा। जिसे बचाए जाने के लिए इसका पुरजोर विरोध किया जाएगा ।उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार उत्तराखंड में जो काला कानून बनाने जा रही है ।उसे यहां की जनता कभी बर्दाश्त नहीं करेगी। जिसके लिए राज्य सरकार को भी जगाने के लिए सड़कों पर उतरेंगे ,शैलेंद्र रावत का कहना था ।कि यमकेश्वर विधानसभा के अंतर्गत पहले से ही सड़कों की स्थिति काफी दयनीय है। जिसके कारण बीन नदी के पुल का निर्माण भी अधर में लटका है। गंगा भोगपुर में तटबंध निर्माण कोडिया किम सार मार्ग पर बुरी स्थिति बनी है ।धारकोट की स्थिति भी काफी खराब है ।उन्होंने कहा कि यमकेश्वर से सीधे  के किमसार  मार्ग के निर्माण की स्वीकृति कांग्रेस शासन में हो चुकी थी ।लेकिन उसका भी निर्माण नहीं किया जा रहा है ।उन्होंने कहा कि सेंसटिव जॉन बनने के बाद लोगों को और भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। जिसके लिए तमाम क्षेत्र के लोग आंदोलन करने के लिए तैयार है। पत्रकार वार्ता में जोंंक नगर पालिका के अध्यक्ष
माधव अग्रवाल , देवेंद्र राणा, आदेश, गीता राणा , विनोद डबराल सहित अन्य लोग भी उपस्थित थे ।

Post A Comment: