ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में कनखल, हरिद्वार स्थित रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में मासिक कैंसर परीक्षण एवं उपचार शिविर आयोजित किया गया। शिविर में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने करीब 27 मरीजों की जांच की व उन्हें जरुरी परामर्श दिया। शिविर में सर्जरी के लिए चिह्नित मरीजों को एम्स ऋषिकेश में भर्ती होने को कहा गया है। इस अवसर पर चिकित्सकीय दल ने मरीजों व उनके तीमारदारों को कैंसर की बीमारी के प्रति जागरुक भी किया।
    एम्स ऋषिकेश की ओर से रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में आयोजित निशुल्क कैंसर जांच शिविर में अपने संदेश में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि संस्थान उत्तराखंड में कैंसर के समुचित इलाज के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने बताया कि एम्स संस्थान का उद्देश्य इस तरह के नियमित शिविरों के माध्यम से लोगों में इस घातक व जानलेवा बीमारी के प्रति जागरुक करना है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि  संस्थान में प्रत्येक सप्ताह बृहस्पतिवार को प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी ओपीडी भी शुरू कर दी गई है, बीते माह चार जुलाई से शुरू हुई इस साप्ताहिक क्लिनिक का उद्देश्य मरीजों में कैंसर को प्रथम पायदान पर पहचान कर उसका समुचित उपचार करना है,जिससे मरीजों को इस बीमारी से पूरी तरह से मुक्त किया जा सके। उन्होंने बताया कि लोग स्वास्थ्य के प्रति जागरुक हों तो कैंसर का जल्दी से पता लगाकर बीमारी का पूर्णरूप से उपचार किया जा सकता है। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि राज्य में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना का उद्देश्य उत्तराखंड व समीपवर्ती राज्यों के लोगों के स्वास्थ्य की त्वरित जांच व समुचित उपचार सुविधाएं मुहैया कराना है। एम्स के सर्जिकल ओंकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. एसपी अग्रवाल की देखरेख में आयोजित मासिक शिविर में डा. पंकज कुमार गर्ग व डा. भियांराम ने मरीजों का सघन परीक्षण किया और उन्हें उचित परामर्श दिया। प्रो. अग्रवाल ने बताया कि रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम में अगले माह सात सितंबर को मासिक कैंसर परीक्षण शिविर का आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर मिशन के स्वामी दयाधिपानंद महाराज,डा.देवब्रत सिंह, डा. संदीप कुमार आदि मौजूद थे।

Post A Comment: