ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में दो दिवसीय लैबरोट्री ट्रेनिंग मैनेजमेंट प्रोग्राम आयोजित किया गया, जिसमें फैकल्टी, स्टूडेंट्स व टेक्निशियनों ने प्रतिभाग किया। कार्यशाला में विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को प्रयोगशाला में क्वालिटी कंट्रोल व उच्च गुणवत्ता से संबंधित प्रशिक्षण दिया। एम्स संस्थान में आयोजित दो दिवसीय लैबरोट्री क्वालिटी मैनेजमेंट ट्रेनिंग प्रोग्राम का निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने विधिवत शुभारंभ किया। इस अवसर पर निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने कहा ​कि बिना लैबरोट्री क्वालिटी कंट्रोल के संस्थान का कार्य नहीं चलेगा। उन्होंने बताया कि यदि संस्थान का कार्य उच्चगुणवत्तापरक व विश्वसनीय होगा तो हम अपने अस्पताल में आने वाले मरीजों के साथ ही अन्य लोगों व संस्थानों में भी विश्वसनीय माने जाएंगे और बाहरी संस्थानों के सैंपल भी परीक्षण के लिए हमें मिल सकेंगे। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि लैबरोटरी में क्वालिटी कंट्रोल की ओर विशेष ध्यान देने पर संस्थान को एनएबीएल, कैप व सिक्स सिग्मा जैसी संस्थाओं से विश्वसनीयता की मान्यता प्राप्त हो जाती है। इसके लिए संस्थान में संचालित होने वाली सभी प्रयोगशालाओं को गुणवत्ता को प्रमाणित करने वाली इन संस्थाओं की कसौटी पर खरा उतरना होगा। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने इसके लिए व्यक्तियों की बजाए मशीनों के उपयोग पर जोर दिया। उनका कहना है कि मशीनों के इस्तेमाल से हम गुणवत्ता के मामले में ह्यूमन एरर को कम कर सैंपलिंग,परीक्षण व परिणाम को अपेक्षाकृत कहीं जल्दी दे सकते हैं। कार्यशाला में विशेषज्ञ डा. अरुण रायजादा ने फैकल्टी, विद्यार्थियों व तकनीशियनों को प्रयोगशालाओं में सैंपल परीक्षण में उच्च गुणवत्ता व लैबरोट्री के साथ ही संस्थान की विश्वनीयता बढ़ाने के गुर सिखाए। उन्होंने प्रतिभागियों को लैब व क्वालिटी से संबंधित प्रशिक्षण दिया और इससे जुड़ी बुनियादी पहलुओं की जानकारी देने के साथ ही उच्चतम मानकों को प्राप्त करने के तौर तरीके बताए। कार्यशाला में ,डा.अदिति,डा.अमित श्रीवास्तव, विनायक मनी ने भी व्याख्यान दिया। इस अवसर पर मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश,पैथोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. संजीव किशोर, डा. बलराम जीओमर ने प्रयोगशालाओं में उच्च गुणवत्ता के लिए इस तरह की कार्यशालाओं की शुरुआत को अच्छी पहल बताया। इस अवसर पर डीन प्रो.सुरेखा किशोर, प्रोफेसर मनोज गुप्ता, प्रो.प्रतिमा गुप्ता, बायोकैमेस्ट्री विभागाध्यक्ष डा. अनीसा आतिफ मिर्जा, प्रो. एसपी राना, डा. मनीषा नैथानी, लखनऊ के एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट जीतेश जौहरी आदि मौजूद थे।

Post A Comment: