वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी वस्तुओं पर लगने वाले टैरिफ के लिए भारत पर एक बार फिर निशाना साधा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने ट्वीट में कहा है कि अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क लगाकर भारत ने लंबे समय से लाभ लिया है लेकिन अब यह स्वीकार्य नहीं है। बता दें कि जापान में जी-20 सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात से ठीक पहले ट्रंप ने इसी तरह का एक ट्वीट किया था।  
अमेरिकी राष्ट्रपति ने मंगलवार को अपने एक ट्वीट में कहा, 'अमेरिकी उत्पादों पर टैरिफ लगाकर भारत लंबे समय से लाभ लेता आया है। अब यह स्वीकार्य नहीं है।' जापान के ओसाका में गत 27 जून को पीएम मोदी के साथ अपनी द्विपक्षीय बैठक से पहले ट्रंप ने अमेरिकी उत्पादों पर लगने वाले शुल्क को लेकर भारत पर निशाना साधा। ट्रंप ने कहा, 'मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ इस बात पर चर्चा करूंगा कि भारत वर्षों से अमेरिकी उत्पादों पर अत्यधिक शुल्क वसूलता आया है। यहां तक कि उसने हाल ही में इस टैरिफ में वृद्धि की है। यह स्वीकार्य करने योग्य नहीं है। अमेरिकी वस्तुओं पर टैरिफ अवश्य वापस होनी चाहिए।'
बता दें कि भारत ने जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिका के 28 उत्पादों पर शुल्क बढ़ाया है और भारत का यह कदम ट्रंप को नागवार गुजरी है। इसके बाद वह भारत पर लगातार निशाना साध रहे हैं। अमेरिका ने कुछ समय पहले अपने जीएसपी व्यापार कार्यक्रम के तहत भारत को दिए गए लाभार्थी विकासशील देश का दर्जा खत्म कर दिया। इसके बाद भारत ने अमेरिका से आयातित होने वाली अखरोट, दाल, बादाम सहित 28 वस्तुओं पर लगने वाले शुल्क में वृद्धि कर दी। 
ट्रंप प्रशासन चाहता है कि अमेरिकी उत्पादों के लिए मोदी सराकर कारोबार बाधाओं को कम करने के साथ-साथ व्यापार में 'बराबरी' का दर्जा लागू करे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने मशहूर हर्ले डेविडसन बाइक पर भारत के अत्यधिक आयात शुल्क पर नाखुशी जताई है और इसकी आलोचना की है। ट्रंप ने इसे 'अस्वीकार्य' बताया है। हालांकि, ट्रंप ने कहा कि उनके 'अच्छे मित्र' प्रधानमंत्री मोदी ने  इस बाइक पर लगने वाले शुल्क को 100 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत की है।

Post A Comment: