रूड़की। भगवानपुर औधोगिक क्षेत्र की एक फैक्ट्री में हुए बॉयलर फटने के बाद हुए धमाके में 10 लोग घायल हो गए। घायलों को रूड़की के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इसमें दो की हालत गम्भीर बनी हुई है। वहीं फैक्ट्री ने पूरे मामले पर पर्दा डालने का प्रयास किया। कवरेज करने गए मीडिया कर्मियों से अभद्रता करने के साथ धमकी तक दे डाली।
भगवानपुर के रायपुर औधोगिक क्षेत्र में सनराइज इंडस्ट्री के नाम की एक फैक्ट्री है जो कि कत्था बनाने का काम करती है। सोमवार सुबह करीब दस बजे बॉयलर फटने से फैक्ट्री में अचानक धमाका हो गया। धमाके के दौरान बॉयलर में से निकले पानी मे दस मजदूर बुरी तरह झुलस गए। वहीं धमाके की आवाज सुनकर फैक्ट्री में काम कर रहे अन्य मजदूर भी उस ओर दौड़े। उन्होंने सभी घायलों को बाहर निकाला और वहां से घायलों को रुड़की के एक निजी अस्पताल भेजा गया। इनमें से दो की हालत गम्भीर बनी हुई है। एक दो मरीजों को झुलसने के साथ पैर में फैक्चर भी हुआ है। सभी घायल जिला सीतापुर उत्तर प्रदेश के बताए गए हैं। घायलों के नाम रामु शर्मा (35 वर्ष), अजय कुमार(30 वर्ष), निरजंन (20 वर्ष), रोहित (23 वर्ष), अरविंद मौर्या (20 वर्ष),ज्ञानू (35 वर्ष), हनुमान (30 वर्ष),आशीष (22 वर्ष),ब्रजपाल (50 वर्ष), अरुण कुमार (25 वर्ष) बताए गए हैं। सभी का रूड़की के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है।
इतनी बड़ी घटना को फैक्ट्री प्रबंधन छिपाता रहा। पुलिस प्रशासन को सूचना प्रबंधन की ओर से नही दी गयी। घायलों को सरकारी अस्पताल ले जाने की बजाए एक निजी अस्पताल ले जाया गया। वहाँ चिकित्सक ने अपना फर्ज निभाते हुए पहले क्षेत्रीय पुलिस को सूचना दी और फिर घटना स्थल वाले क्षेत्र की पुलिस को भी मामले की जानकारी दी। उसके बाद पुलिस और प्रशासन की टीम ने मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली।
जिस निजी अस्पताल में घायलों का उपचार चल रहा था वहां मीडिया कर्मी कवरेज के लिए पहुंचे। लेकिन वहां फैक्ट्री प्रबंधन की ओर से तैनात दो कर्मचारियों ने अभद्रता शुरू कर दी। यहां तक कि हाथापाई का प्रयास भी किया। बाद में अस्पताल प्रबंधन ने मामले को शांत किया। इसके बाद भी कर्मचारी उलझता रहा यहां तक कि उसने मीडिया कर्मियों को देख लेने की धमकी के साथ यह तक कहा कि मेरे घर मे चार काले कोट वाले हैं। 

Post A Comment: