ऋषिकेश,04जूूून( आज का आदित्य) । प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से वर्ष 2017 में प्रारंभ की गई, मेरा भारत स्वर्णिम भारत नाम से, राज योग द्वारा युवाओं को आध्यात्मिक मूल्यों एवं चरित्र निर्माण के लिए प्रोत्साहित करने के साथ स्वच्छ, स्वस्थ भारत के लिए लोगों की सक्रिय भूमिका को बढ़ाने के उद्देश्य को लेकर यात्रा का ऋषिकेश पहुंचने पर भव्य स्वागत किया  गया। यात्रा के  ऋषिकेश पहुंचने पर प्रजापिता ब्रह्मकुमारी बहन आरती ने  बताया की आज भारत को युवा भारत के रूप में जाना जाता है लेकिन लोगों को स्वस्थ बनाने के लिए अपने आसपास फैली गंदगी को हटाकर पूरे क्षेत्र को स्वच्छ बनाना होगा। जिसके लिए हमें अपने मन को भी बनाने की आवश्यकता है उन्होंने कहा इस कार्य में युवाओं की भागीदारी महत्वपूर्ण है जो कि युवाओं के अंदर आ रही बुराइयों को साफ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है इसी उद्देश्य को लेकर हमें युवाओं के अंदर आ रही बुराइयों को समाप्त करना होगा ।तभी भारत को स्वर्णिम भारत के रूप में स्थापित किया जा सकता है । इसी को लेकर यह यात्रा जुलाई वर्ष 2017 में  माउंट आबू से प्रारंभ की गई थी, उस का समापन 2019 में  माउंट आबू में ही होगा। यह यात्रा  देश के हजारों गांवों कस्बों व शहरों से होते ही यहां आज म़ंगलवार  को ऋषिकेश पहुंची है । यात्रा में चल रही एक बस में पूरे भारत की झांकियों को प्रदर्शित किया गया है। जिसका मुख्य उद्देश्य राज योग द्वारा युवाओं को आध्यात्मिक मूल्यों एवं चरित्र निर्माण के लिए प्रोत्साहित करने के साथ स्वच्छ स्वस्थ भारत के लिए लोगों की सक्रिय भूमिका को बढ़ावा देना तथा सकारात्मकता से सकारात्मक परिवर्तन के लिए युवा प्रतिनिधियों को संस्थाओं से जोड़कर उसके लिए युवाओं को प्रेरित करना भी है । बहन आरती ने कहा कि वैसे तो उत्तराखंड  को देव भूमि कहा जाता है ,परंतु जगह-जगह मांस मदिरा की बिक्री की जा रही है । जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है । इसके विरोध में  हमारी संस्था निरंतर कार्य कर रही है।
यात्रा का स्वागत करने वालों ने  बहन आरती सह संचालिका बहन निर्मला , यादव राय  गुप्ता, राजीव गर्ग , नवनीत कुमार, अजय गोयल, अमृत लाल , मदन मोहन शर्मा, केएस राणा वरिष्ठ नागरिक कल्याण समिति के अध्यक्ष हरीश धींगरा, पीडी अग्रवाल बाबूराम अग्रवाल, एसपी अग्रवाल ,ब्रह्म कुमार शर्मा, दिनेश मुद्गल  नरेश भारद्वाज ,नरेश गर्ग भी उपस्थित थे ।

Post A Comment: