ऋषिकेश तीर्थ नगरी के राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज आईडीपीएल के संस्कृत प्रवक्ता आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल का राजस्थान जयपुर पहुंचने पर देश एवं विदेशों से पहुंचे हुए संस्कृत ज्योतिष एवं विज्ञान से जुड़े हुए विद्वानों ने भव्य स्वागत किया श्री वेद ज्योतिष विज्ञान कला संस्कृति जनकल्याण एवं अनुसंधान संस्थान जयपुर की तरफ से आयोजित दो दिवसीय वैदिक ज्योतिष मंथन सम्मेलन में विशिष्ट अतिथि के रूप में पहुंचे डॉक्टर घिल्डियाल  ने मंत्रों की ध्वनि को यंत्रों में परिवर्तित कर असाध्य रोगों एवं मानव जीवन की सभी समस्याओं को किस प्रकार से हल किया जा सकता है इस पर व्याख्यान दिया जिसका सभी विद्वानों ने करतल ध्वनि से स्वागत किया डॉक्टर घिल्डियाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति बहुत ऊंची है। हमारे वेद एवं शास्त्रों में सभी प्रकार के गुण छुपे हुए हैं बस आवश्यकता है उन पर तथ्यपरक शोध करने की उन्होंने ज्योतिष को शक का विषय बनाने के बजाय शोध का विषय बनाने पर  जोर दिया कार्यक्रम  के अध्यक्षता राष्ट्रीय ज्योतिष महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंडित के ए दुबे पद्मेश ने की तथा संचालन आयोजक संस्था के निदेशक पंडित दिलीप अवस्थी ने किया इससे पूर्व जयपुर हवाई अड्डे पर पहुंचने पर डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल का नेपाल इंडोनेशिया, श्रीलंका, मलेशिया, मॉरीशस, सहित भारत के लगभग सभी प्रदेशों से पहुंचे हुए उच्च कोटि के संस्कृत विद्वानों ज्योतिषियों शिक्षाविदों ने भव्य स्वागत किया स्वागत करने वालों में संस्था के निदेशक पंडित दिलीप अवस्थी अध्यक्ष कुमारी अनुराधा अवस्थी पूर्व कैबिनेट मंत्री, डॉ नंदकिशोर पुरोहित,श्री श्याम आचार्य, श्री बृजकिशोर, आचार्य धीरेंद्र  शुक्ला, सरिता गौर, पंडित दीनदयाल शास्त्री आदि उपस्थित थे।

Post A Comment: