ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की टीम ने संस्थान के चिकित्सकों को देश के सरकारी जिला अस्पतालों में उपलब्ध मरीजों के रिकॉर्ड का परीक्षण व उसके भौतिक सत्यापन का प्रशिक्षण दिया। एम्स संस्थान के मेडिकल एजुकेशन विभाग में आयोजित कार्यशाला में क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की टीम मेंबर डा.कशिपा हरित व आशुतोष ने संस्थान के चिकित्सकों को अस्पतालों में आने वाले रोगियों से संबं​धित जानकारियों का प्रशिक्षण दिया। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि टीम द्वारा संस्थान के फैकल्टी मेंबरों व चिकित्सकों को अस्पताल में वाह्य रोगी विभाग (ओपीडी), आंतरिक राेगी विभाग (आईपीडी), ऑपरेशन थियेटर, टीकाकरण, अस्पताल में जन्में बच्चों व मृतकों आदि से जुड़े डाटा के सत्यापन का प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार के नीति आयोग की ओर से देश के विभिन्न प्रांतों में सरकारी जिला अस्पतालों से हाॅस्पिटल मैनेजमेंट इन्फोरमेशन सिस्टम के तहत उपलब्ध रोगियों से जुड़ी जानकारियों का सत्यापन किया जा रहा है। इसके लिए चिकित्सकों को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया को सौंपी गई है। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि इसके बाद एम्स की प्रशिक्षित टीम देश के विभिन्न सरकारी अस्पतालों में जाकर रोगियों से जुड़ी जानकारियां जुटाएगी और उनका भौतिक सत्यापन कर अपनी रिपोर्ट क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया को ऑनलाइन उपलब्ध कराएगी। इस अवसर पर ​मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रो. मनोज गुप्ता, डा. सौरभ वार्ष्णेय, डा. प्रतिमा गुप्ता, डा. नवनीत भट्ट, डा. रूबी गुप्ता, डा. मीनाक्षी धर, डा. राजेश पसरीचा, डा. अनुभा अग्रवाल, डा. बेला, डा. रश्मि मल्होत्रा, डा. रंजीता, डा. मोहित, डा. मीनाक्षी खपरे, डा. प्रशांत दुर्गापाल, डा. संतोष कुमार आदि मौजूद थे।

Post A Comment: