देहरादून। देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के बाद अब उत्तराखंड प्रदेश संगठन भी हार के कारणों पर मंथन करेगा। जिसमें करारी हार के कारणों को समीक्षा बैठक में शामिल किया जाएगा, जिसमें टिकट बंटवारा खास होगा। वहीं, राजनीतिक हलकों में पूर्व सीएम हरीश रावत को हरिद्वार की जगह नैनीताल से टिकट दिए जाने को हार की वजह माना जा रहा है। गौर हो कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में आत्मचिंतन का दौर शुरू हो गया है। उत्तराखंड में पांचों लोकसभा सीट हारने पर न केवल अनुशासनात्मक कमियों और संगठन की कमजोरियों पर विचार किया जा रहा है, बल्कि टिकट बंटवारे पर भी समीक्षा का मुद्दा शामिल किया गया है। पार्टी हार की तमाम वजहों के साथ इस बात पर भी चिंतन करेगी की चुनाव के दौरान जिन प्रत्याशियों को जिन सीटों से टिकट दिए गए क्या वह सही थे। खासतौर पर हरिद्वार लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने वाले दिग्गज नेता हरीश रावत को नैनीताल सीट पर टिकट दिए जाने पर भी मंथन होगा। वहीं, कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना की मानें तो हार पर जल्द ही समीक्षा की जाएगी। जिसमें टिकट बंटवारे समेत तमाम दूसरे मुद्दों को रखा जाएगा। बता दें कि इस बार लोकसभा चुनाव में प्रदेश की पांचों सीटों पर दोबारा कमल खिला है। वहीं, कांग्रेस पार्टी हार की वजहों पर मंथन कर रही है।

Post A Comment: