ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश की ओर से रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम कनखल, हरिद्वार में कैंसर परीक्षण एवं उपचार शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में करीब 40 रोगियों की जांच की गई। इस दौरान मरीजों को कैंसर की बीमारी के प्रति जागरुक किया गया। एम्स ऋषिकेश की ओर से आयोजित कैंसर जांच शिविर के ​अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि ऋषिकेश में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना का उद्देश्य उत्तराखंड व समीपवर्ती राज्यों के लोगों के स्वास्थ्य की त्वरित जांच व उन्हें समुचित उपचार सुविधा उपलब्ध कराना है। निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि इसके अलावा एम्स का इस तरह के स्वास्थ्य चिकित्सा,शिक्षा जनजागरुकता शिविरों के आयोजन का उद्देश्य लोगों को चिकित्सा के साथ ही स्वास्थ्य शिक्षा देना भी है, जिससे लोग हेल्थ के प्रति जागरुक हो सकें। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का प्रारंभिक जांच में पता लगने पर समुचित उपचार संभव है। उन्होंने बताया कि संस्थान की ओर से स्वास्थ्य जनजागरुकता शिविर आगे भी सततरूप से जारी रहेंगे। शिविर में एम्स के सर्जिकल ओंकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. एसपी अग्रवाल, डा. पंकज कुमार गर्ग व डा. केएस राजकुमार ने रोगियों की सघन जांच की और उन्हें आवश्यक परामर्श दिया। उधर दूसरी ओर इस अवसर पर आईआईटी रुड़की के प्रोफेसर प्रभात मंडल ने एम्स के कैंसर शल्य चिकित्सा विभाग के चिकित्सकों के साथ कैंसर में बुनियादी अनुसंधान विषय पर विस्तृत चर्चा की। इस अवसर पर चिकित्सकों ने एम्स संस्थान के कैंसर शल्य चिकित्सा विभाग में उपलब्ध विभिन्न सुविधाओं के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम के सचिव व वरिष्ठ सन्यासी  स्वामी नित्यसुधानंद जी महाराज ने इस स्वास्थ्य सेवा का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि अगला कैंसर जांच शिविर अगले महीने एक जून (शनिवार) को आयोजित किया जाएगा। मिशन के स्वामी दयाधिपानंद,डा.देवव्रत सिंग व नर्सिंग स्टाफ मेंबर मौजूद थे।

Post A Comment: