देहरादून। उत्तराखंड में स्थित सिखों के दसवें गुरु गुरु गोविन्द साहिब की तपस्थली के रूप में विख्यात हेमकुंड साहिब के कपाट एक जून से खुलने जा रहे हैं। गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी ऋषिकेश ने इस धार्मिक यात्रा की तैयारियां पूरी कर ली हैं। सेना लगातार रास्तों से बर्फ हटाने का काम कर रही है। इस बार बहुत ज्यादा बर्फबारी की वजह से यात्रा की तारीख टाली गई थी। फिलहाल सेना की टीम रास्ते साफ करने और जरूरी सुविधाएं जुटाने के काम में लगी हुई है। उत्तराखंड का पांचवां धाम माने जाने वाले हेमकुंड साहिब की यात्रा पर हर साल हजारों की संख्या में तीर्थयात्री पहुंचते हैं। पहले इस तीर्थस्थल के कपाट 23 मई को खुलने थे लेकिन यहां जमी बर्फ को देखते हुए यह तारीख बढ़ाकर एक जून कर दी गई थी। इस महीने के शुरु में ही आर्मी इंजीनियरिंग कोर की टीम हेमकुंड साहिब पहुंच गई थी और बर्फ हटाने के काम में जुट गई थी। हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट के मैनेजर दर्शन सिंह के अनुसार हेमकुंड साहिब में पानी का इंतजाम कर लिया गया है। एक तारीख तक सारी व्यवस्थाएं दुरुस्त कर ली जाएंगी। हेमकुंड साहिब क्षेत्र में गुरुद्वारा क्षेत्र, लंगर क्षेत्र के साथ ही 25 फीट ऊंचाई वाले गुरुद्वारे का पहला निशान साहिब भी लगभग बर्फ से ढक गया था।

Post A Comment: