ऋषिकेश। तीर्थनगरी ऋषिकेश में कैफे संचालक की दबंगई सामने आई है। कैफे संचालक पर आरोप लगे हैं कि उसने एक बेरोजगार युवक से नौकरी के नाम पर 6 महीने तक काम कराया और पैसे मांगने पर बिना पैसे दिए निकाल दिया। पीड़ित ने मुनि की रेती पुलिस से शिकायत की है। पुलिस ने कैफे संचालक को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें, हरियाणा का रहने वाला जितेंद्र नाम का व्यक्ति तपोवन में कैफे संचालित करता है। उत्तरकाशी का रहने वाला नवीन नाम का एक युवक नौकरी की तलाश में ऋषिकेश आया. उसने काठ कैफे में 12 हजार रुपये प्रति माह के हिसाब से नौकरी शुरू कर दी। नवीन ने इस कैफे में करीब 6 माह तक काम किया, लेकिन इस दौरान उसको एक भी पैसे नहीं दिए। नवीन ने जब कैफे मालिक से पैसे मांगे तो उसको कुछ पैसे देकर नौकरी से निकाल दिया। परेशान नवीन ने पुलिस का सहारा लिया। पुलिस की दखलअंदाजी पर कैफे मालिक ने दो चेक दिए। लेकिन खाते में पैसे न होने की वजह से चेक बाउंस हो गए। जिसके बाद पीड़ित मुनी की रेती थाने पहुंचकर अपनी शिकायत दर्ज कराई है। मुनी की रेती थाना प्रभारी निरीक्षक आरके सकलानी ने बताया कि नवीन बिष्ट नाम के एक युवक ने जितेंद्र नाम के व्यक्ति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएगी है। नवीन का कहना है कि जितेंद्र एक कैफे चलाता है। उसने कैफे में 6 महीने तक नौकरी की है, लेकिन कैफे मालिक ने पैसे नहीं दिए हैं। थाना प्रभारी ने बताया कि उन्होंने कैफे संचालक को गिरफ्तार कर लिया है।

Post A Comment: