देहरादून। उत्तराखंड में जंगल की आग बेकाबू हो गई है। पहाड़ से लेकर मैदान तक सभी जगह जंगल धू-धू कर जल रहे हैं। मंगलवार रात तक जंगलों में 160 स्थानों पर आग लगी हुई थी, जिस पर काबू पाने की मशक्कत जारी रही। 

रानीखेत में घिंघारीखाल से लगे भंगचौड़ा के जंगल की आग के सैन्य सीमा क्षेत्र की ओर बढ़ने पर सेना के जवानों ने मोर्चा संभाला। मशक्कत के बाद उन्होंने आग पर काबू पाने में सफलता पाई। जंगलों में आग से धुंध भी फैली है और चमोली में इसके चलते हेली सेवाओं पर असर पड़ा। 

इस फायर सीजन में जंगल की आग की अब तक 1420 घटनाएं हो चुकी हैं, जिनमें 1840 हेक्टेयर क्षेत्र में वन संपदा को भारी क्षति पहुंची है। आग की लगातार बढ़ी घटनाओं से वन विभाग की पेशानी पर बल पड़े हैं। इसे देखते हुए वन मुख्यालय ने सभी वन प्रभागों को फायर वाचरों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं, ताकि आग पर नियंत्रण पाया जा सके। 

तापमान में बढ़ोतरी के साथ ही राज्यभर में जंगलों के धधकने का सिलसिला तेज हो चला है। अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि पिछले 24 घंटे के दरम्यान 112 स्थानों पर पर आग लगी। अभी भी राज्यभर में जंगल जगह-जगह धधक रहे हैं और इसके साथ ही धुंए की धुंध फैलने लगी है। 

Post A Comment: