नई दिल्ली: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने अपने बैंक ग्राहकों को अनजान लोगों से आने वाले व्हाट्सएप मैसेज के प्रति आगाह किया है। बैंक ने जानकारी दी है कि कुछ यूजर्स को ऐसे व्हाट्सएप (WhatsApp) मैसेज आ रहे हैं जो एसबीआई ग्राहकों से उनकी पर्सनल बैंकिंग डिटेल्स मांग रहे हैं। एसबीआई ने बताया कि उन्हें कुछ यूजर्स के बारे में जानकारी मिली है कि उन्हें इस प्रकार के व्हाट्सएप मैसेज आए हैं। पर्सनल डिटेल्स मांगने वाले ये मैजेस ना सिर्फ व्हाट्सएप बल्कि अन्य सोशल मीडिया साइट पर भी आ रहे हैं। 

इन मैसेज में ग्राहकों को पहले ओटीपी संबंधी जानकारी दी जाती है। बाद में उनके साथ ठगी की जा रही है। ग्राहकों का विश्वास जीतने के लिए संदिग्ध सबसे पहले उन्हें ओटीपी संबंधी जानाकारी देते हैं और फिर उनसे उनका रियल ओटीपी हासिल कर लेते हैं। वहीं कुछ मामलों में व्हाट्सएप मैसेज के साथ एक एप का लिंक भी आता हैं।

जिससे बैंकग्राउंड में एक एप डाउनलोड हो जाता है, जो आपकी पर्सनल डिटेल्स चोरी करता है। ये एप आपके फोन पर आए ओटीपी की जानकारी ठगी करने वाले शख्स को देता है। शुरुआत में  फ्रॉड करने वाला शख्स खुद को बैंक कर्मचारी बताकर आपसे बात करता है। वह आपसे आपके क्रेडिट या डेबिट कार्ड की जानकारी लेता है या उसे अपडेट करने की बात करता है। 

ठगी करने वाला शख्स आपसे आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड का नंबर, सीवीवी, एक्सपायरी डेट आदि जानकारी लेता है। इसके बाद शख्स कहता है कि आपको एसएमएस मिलेगा, जो ये कन्फर्म करेगा कि आपका कार्ड अपडेट हुआ है या नहीं। अब इस घोटाले का दूसरा भाग शुरू होता है।

इस एसएमएस या व्हाट्सएप मैसेज में एक लिंक होता है, जिस पर आप कार्ड अपग्रेड को कन्फर्म करने के लिए क्लिक करते हैं। इसके बाद ग्राहक के स्मार्टफोन में एक एप डाउनलोड हो जाता है, जो ओटीपी आदि की जानकारी ठगी करने वाले शख्स को दे देता है। इस तरह से आपके बैंक अकाउंट से चोरी को अंजाम दिया जाता है।

Post A Comment: