ऋषिकेश, 17मार्च। होली में बेजुबान जानवरों पर रंग का प्रयोग ना करें ,क्योंकि सभी जानवरों  की त्वचा बहुत ही सेंसिटिव होती है। इन पर रंग डालना खतरनाक हो सकता है। यह बात कर्मा एनिमल संस्था के संस्थापक राहुल नागर ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही उन्होंने कहा कि रंगो के दुष्प्रभाव से बचने के लिए हम और आप तो उपाय कर लेते हैं पर इन जानवरों का   क्या पता है, कि इन रंगों का उन पर क्या असर होने वाला है। रंग लगाने के बाद जानवरों कोई ऐसी एलर्जी तकलीफ  देय होती  है ।तो वह इसे बोलकर बयां भी नहीं कर सकते हैं। और जब तक उनकी तकलीफ हमें समझ में आती है ।तब तक कई बार बहुत देर हो चुकी होती है ।कई बार रंग इतने पक्के होते हैं ।कि जानवरों के  ऊपर से इन्हे हटाते समय उनके शरीर पर से बाल व फर ही गायब हो जाती है ।जो सर्दी गर्मी से उनकी त्वचा की सुरक्षा करती है । नागर का कहना था, कि रंगो में  केमिकल्स का प्रयोग होता है । जिससे जानवरों पर इनका असर काफी गंभीर होता है ।रंगो में मिला हुआ पानी पीने से जानवरों के लिवर खराब होने का खतरा बना रहता है। रंग सांस के जरिए जानवरों की नाक में जलन  रेस्पिरेट्री एलर्जी या इंफेक्शन पैदा करता है।

Post A Comment: