ऋषिकेश 10 मार्च।  आज एम्स निष्कासित कर्मचारी मोर्चा का 15 दिन भी धरना जारी रहा उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी संयुक्त संघर्ष समिति प्रदेश अध्यक्ष वेद प्रकाश शर्मा ने कहा कि एम्स प्रशासन की संवेदनशीलता से कर्मचारियों और आंदोलनकारियों में भारी रोष व्यक्त है एम्स प्रशासन का भ्रष्टाचार में व्याप्त होना प्रदर्शित करता है उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच की प्रदेश महामंत्री डी एस गोसाई ने कहा कि हम किसी भी टाइम एम्स प्रशासक का घेराव कर सकते हैं जब तक  यह संघर्ष जारी रहेगा तथा इस संबंध में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा जी से भी मंडल वार्ता करेगा जिसमें के भ्रष्टाचार को उजागर किया जाएगा उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच के सलाहकार विक्रम भंडारी ने कहा कि जब तक स्थानीय निवासियों को 70% का लाभ नही दिया जाएगा तब तक यह धरना जारी रहेगा धरने को संबोधित करते हुए मनीषा वर्मा ने कहा कि एम्स निदेशक ने संस्थान में भ्रष्टाचार का अड्डा बना रखा है जिसको नारी शक्ति कतई बर्दाश्त नहीं करेगी अपने हकों के लिए हमें जो भी लड़ाई लड़नी होगी हम पीछे नहीं हटेंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी यह सब प्रशासन की होगी। आंदोलनकारी अरविंद हटवाल ने कहा कि एम्स प्रशासन ने एम्स में दलाली का अड्डा बना रखा है  सुविधा शुल्क के लिए हुए वह मिलने को राजी नहीं है जिस की सीबीआई जांच होनी चाहिए। धरने में मुख्य रूप से मनोज बिष्ट अमित बडोनी सुनील खंडूरी जी आर उनियाल अरविंद हटवाल बेरोजगार संघ सलाहकार नवीन शर्मा करमचंद गुसाईं एडवोकेट विवेक भंडारी दीपक लाल उदयवीर चौहान प्रवीण मिश्रा कुलदीप ममगाई दिग्विजय तिवारी मनीषा वर्मा कंचन भवानी देवी संगठनों में उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी संयुक्त संघर्ष समिति बेरोजगार संघ अटल सेना उत्तराखंड कांग्रेस पार्टी आजाद भारत कांग्रेस सहित सैकड़ों लोगों ने समर्थन दिया तथा एम्स निदेशक की कड़ी भर्त्सना की तथा एम्स प्रशासक की सीबीआई की जांच की भी मांग की कहां की एम्स से निदेशक वह चाहिए तुरंत वार्ता कर इस मसले को हल करना चाहिए नहीं तो यह आंदोलन बहुत बड़ा रूप ले लेगा जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी एम्स प्रशासन की होगी।

Post A Comment: